Sunday, December 20, 2015

BENEFITS OF HIJAMA (CUPPING)


The act of perfoming Hijama is a Sunnah of the Prophet Muhammad ﷺ and it is extensivly reported in a wide collection of authentic ahadith. Its practice is strongly recomened and emphasized in a number of narations. The practice of Hijama forms an integral part of Islamic Prophetic Medicine.

Hijama was a common practice of the Prophet Muhammad ﷺ and his companions for the treatment of a range of ailments as well as a form of body maininance and health promotion.


What is Cupping or Hijama
Hijama or cupping is a safe, non-invasive and economical way of curing and preventing many diseases.  Though Chinese use of this method was limited to certain medical complications like lungs infection, colds, to treat internal organs’ disorders, joint pain, etc, the scope of hijama benefits is much higher than this limit.

The word ‘hijama’ means ‘drawing out’ in Arabic. It is now being recognized as an alternative medicine or alternative way of treating different diseases and bodily disorders. Modern medical science also endorses the various benefits of hijama and even encourages its practice in certain diseases.

In this non-surgical procedure, toxic or ‘bad’ blood is drawn out from the body. Certain‘hijama points’ on the body are addressed to do so.  On such selected points, blood is encouraged to accumulate and then sucked out by using a little vacuum system.  The blood is made to accumulate on the surface of the skin where minute incisions are introduced on the skin; the blood comes out from the incisions and is collected in a cup from where it is removed.


Benefits of Hijama (Cupping)
Hijamais an ancient bloodletting technique that has been in use in many countries to treat certain diseases or bodily disorders. While the Chinese seems to have done a leading role in using this bloodletting technique to treat certain diseases, the Arabs have adopted it as a much-stressed Sunnah of the Prophet SAW.  The Europeans were also doing cupping to treat many diseases.  The difference between the Arabs or Muslims and others in doing hijama was not hidden since while believers were more interested to do hijama as the Sunnah of theProphet (peace and blessings of Allah be upon him) (without questioning about anything), others were doing it as a pure medical benefit.

The first and top-level benefit of hijama for a believer is the reward he or she will get, both heavenly and worldly, after following a stressed Sunnah of the Prophet (peace and blessings of Allah be upon him).  Not only the believers but also anyone can openly observe or experience the benefits that are bestowed on the followers of the commands of Allah SWT and His Prophet (peace and blessings of Allah be upon him).  On the other hand, when we look at this bloodletting technique from a worldly perspective, we can find hijama has many benefits.

It is noted that hijama promotes the flow of energy in the blood.  It removes toxins and other waste material from the blood.  It helps fasten recovery time and people recover from diseases much faster after hijama.  Hijama is known to prevent many diseases and, therefore, can be considered one of the best preventive measures against many diseases.  Moreover, it is also noted that hijama can help those people as well who are under some magic spell or who are under the influence of some evil beings.

Hijama has no side effects as long as performed properly.  It is also worth noting that about 70% diseases or disorders are caused by the failure of blood to circulate properly in the body.  Furthermore, we get sick or our body organs fail to perform healthily when our blood keep circulating loaded with toxins and other impurities.  Unless the toxic waste is removed from the body or from the blood, not only we do not recover fast from a disease but also become easy victim to other diseases or disorder.  Hijama is the best way to remove the toxic waste from the blood stream, and the results will obviously be a healthy and properly functioning body.  We should never forget that this highly useful and recommended Sunnah of the Prophet SAW helps us in controlling many diseases such as infections, hypertension, circulatory diseases, pains, infertility, cancer, etc.


Importance of Hijama in the Divine Guidance
Instead of putting our words in favor of cupping, we must see the following ahadith that are enough to explain the importance of hijama.

“Indeed in hijama (cupping) there is a cure”.  – Saheeh Muslim

“Indeed, the best of remedies you have is hijama (cupping)”. – Saheeh Al Bukhari

“Hijama is the most helpful procedure for human beings to cure themselves”.– Saheeh Al Bukhari and Saheel Muslim

The importance of hijama in the divine guidance can further be stressed by the following words which were related to the Prophet SAW on the night of Israa (ascension to the heaven) by angles: “O Mohammed, order your ummah (people) with hijama (cupping)”.– Saheeh, Sunan Tirmidhi.

 The Prophet Muhammad ﷺ is reported to have had hijama perfromed on his head for migraine [Bukhari], on his foot after a sprain [Ibn Majah], on his neck [Abu Dawud], on his hip for hip pain [Abu Dawud] and between his shoulders for detoxification [Ahmed].

Abdullah ibn Abbas (may Allah be pleased with him) reported that the Prophetﷺ said: “I did not pass by an angel from the angels on the night journey except that they all said to me: Upon you is cupping (hijama), O Muhammad.”[Saheeh, Sunan ibn Majah]

 “The best medicine with which you treat yourselves is cupping, or it is one of the best of your medicines.” Or“The treatment you can use is cupping.” [Bukhari: 5371]
“Cupping is the most helpful procedure for human beings to cure themselves.”[Bukhari and Muslim]

Abu Hurairah (may Allah be pleased with him) reported that the Messenger ﷺ said, “If there was something excellent to be used as a remedy then it is cupping (hijama).”  [Sunan Abu Dawud, Sunan Ibn Majah]

Source : Agencies

HIJAMA-EK SUNNAT ILAAJ

HIJAMA Ek Sunnat Ilaaj


  • Hijama ek unani ilaaj hai jis ke zariye jism se kharaab khoon nikaal diya jaata hai baghiar koi dard, dawa aur side effect ke.
  • Hijama sunnat e Rasool SAWS aur Unani tareeqa e ilaaj hai.
  • Hijama karwana ya lagwana Huzoor SAWS ki sunnat hai yani khud Aap SAW hijama karaya karte aur apni Ummat ko bhi uski targheeb bhi dete. Irshaad e Nabawi SAWS hai “ behtareen ilaaj jisay tumkartay ho hijama hai.( Sunan Abi Dawud 3857 )
  • Aur Hijama mein 72 bimaariyon se najaat milti hai ( TIBRAANI )
  • Aur Hijama ke liye chaand ki 17, 19 , 21 tareeq (date) ikhteyaar karayga use har bimaari se najaat aur shifa hogi.In shaa ALLAHH. ( Sunan Abi Dawud 3861 (Hasan) )
Koi Bimari Laa Ilaaj nahi. ALLAH SWT ke Fazal se har Bimari ka Ilaaj moujud hai.
Nabi (ﷺ) ne Farmaya ALLAH Ta’ala ne Duniya me koi Bimari aisi nahi utari jiski Dawa aur Shifa mOujud na ho.[Sunan Abu Daud, 28:3846].
Hazrat ibne Abbas (rz) Huzur akram (ﷺ) se riwayat karte hai,
Aap (ﷺ) ne farmaya shifa teen chizo me hai,
  1. Hijama ke zariye cut lagane me.
  2. Shahed ke istemaal me.
  3. Aag se daagne me, tahumm mai apni ummat ko aag ke daagne se rokta hun.
(Sahih al Bukhari 5781)

Hazrat Jabir (r.z) Huzur akram (ﷺ) se riwayat karte hai,
Aap (ﷺ) ne farmaya agar tumhari dawao me kisi dawa me shifa hai toh
Hijama ke zariye cut lagane me hai,
yaa shahed ke istemaal me,
yaa phir aag se daagne me ,
(basharteke) ye daagna oos marz ko raast aajaye,
lekin mai aag se daagne ko pasand nahi karta.
(Sahih al Bukhari 5783)

Hazrat Anas (rz) farmate hai ke Rasool (ﷺ) ne farmaya :
Sabb se bahetreen dawa jissay tumm ilaaj karo who Hijama lagwana hai aur qustool bahri (samandari jadi buti) se ilaaj karna hai.
(Sahih al Bukhari 5797)

Hazrat Jabir (rz) ne hazrat Muqanna(rz) ki iyaadat ki aur farmaya ke
jab tak tum hijama na lagwalo, mai wapas nahi jaonga. isliye ke maine nabi kareem (ﷺ) se suna hai k Hijama lagwane me shifa hai
(Sahih al Bukhari 5797)

Hazrat Samrut bin Jundabb (rz) farmate hai ke
Huzoor akram (ﷺ) ke paas bani Fazara qabile ka ek dehati aaya. Us waqt Aap (ﷺ) ko ek Hijama karne wala Hijama kar raha tha, pass Hijama karne wale ne blade se cut lagaya tov dehati ne (tajjoob se ) poocha.
Aye Allah k rasool (ﷺ) ! yeh aap kiya kar rahe ho ?
Aap (ﷺ) ne irshaad farmaya yeh Hijama hai, yeh un sabb ilaajo se bahetar hai jo log ikhtiyaar karte hai.
(rawa an-nasaai)

Hazrat Maalik bin Saasa (rz) famate hai ke
Nabi akram (ﷺ) ne farmaya ke Meraaj ki raat mera farishto ki jiss jamaat par bhi guzar hua ,unhone mujhe Hijama se ilaaj karane ko kaha.
(Tibrani)

Hijama ke zariye ilaaj karne se inn bimario me faida hota hai.
  1. Khaas tor se sir ka dard
  2. Dipression
  3. Khandoh ka dard
  4. Blood pressure
  5. Kaan ke andar aawaaze aana
  6. Saher (jaadoo)
  7. Ghutno ka dard Tenshion ki wajah se sir dard
  8. Shaqiqa (migraine)
  9. Gurdo ka dard
  10. Sir me chakkar aana
  11. Kamar ka dard
  12. Falej
  13. Thakaan
  14. khoon ki gardish ko bahetar karne k liye
  15. pet ka dard
  16. sine ka dard
  17. Khansi
  18. Mardaana taqat ke liye
  19. Qabz
  20. B.P
  21. T.B
  22. Aurton/Mardon ke poshida amraz
  23. Cancer
  24. Dil ke Amraz
aur bahut si badi chhoti bimariya jinki lambbi fahrist hai,lehaza tamam Amraz ka Ilaaj Hijama me moujud hai. Subhan Allahhh.
Humne yahan Ahadees ke hawale diye hain. Aur ye aisi Sunnat hai jo mit rahi hai, Kuch logon ko iske baare me bilkul bhi pata nahi hai. Hum sab ko is Sunnat ko phir se aam karna hai. Iski hum sab ko koshish karni hai in shaa Allah.
Tirmidhi Hadith 59 me likha hai :
jisne meri Sunnah se muhabbat ki usne mujhse muhabbat ki aur jisne mujhse muhabbat ki wo mere sath rahega jannat me. Aur ye dekhiye ke China walo ne is sunnat ko “chinese therapy” naam de kar is se logon ka ilaj kar rahe hai.
for mOre details see- : http://4.bp.blogspot.com/-I-AzmXmpiLk/UbBF1x8_bOI/AAAAAAAAH94/lyosSV58KG0/s1600/15g7acl.gif
Zyada se zyada is paigam ko aam karne ki koshish kare.
Wallahu Aalam-

Postedd by : A.Sayed

Wednesday, December 2, 2015

GARDAN KA MASHA KARNA

Wuzu ke dauran Gardan ka Masah karna Sunnat e Rasool s.a.w. se sabit nahi hai, lehaza ye biddat hai. Allah pak Quran me wuzu ka mukhtasar tareeka batate hai

Quran main Allah ka Farman Hai
Aey eman walo! Jab tum namaz kay liye utho to apney muh ko aur apney haathon ko kohniyon samet dho lo aur apney siron ka masah kero aur apney paon ko takhnon samet dho lo aur agar tum janabat ki halat mein ho to ghusul kerlo haan agar tum beemar ho ya safar ki halat mein ho ya tum mein say koi hajat zaroori say farigh ho ker aaya ho ya tum aurton say milay ho aur tumhen pani na milay to tum pak mitti say tayammum kerlo issay apney chehron per aur haathon per mal lo Allah Taalaa tum per kissi qisam ki tangi nahi daalna chahata bulkay uss ka irada tumhen pak kerney ka aur tumhen apni bharpoor nemat denay ka hai takay tum shukar ada kertay raho. ( SURAH MAIDAH(5), AYAT-6.)

Is ayat me Allah pak ne sar tak ka masah karne ka hukm diya hai na ki gardan tak ka .Lihaza Wazu ke Dauran Gardan ka Masah karna Biddat Hai. Iska koi Subut nahi.

Ayesha r.a. riwayat karti hai ki
Mohammad s.a.w. ne farmaya ki Jisne hamare is deen me kuch aisi baat shamil ki jo usme se nai hai to wo mardud hai. ( Sahih al bukhari, had-2697 ), ( Sahih Muslim, had-1718.)
Gardan pe masah karne ke bareme Ulma e Deen ka farman :
Imaam an-Nawawee:
Gardan pe Masah karna ye sunnat mese nahi hai balki ye biddat hai.” ( Al-Badar al-Muneer v. 2 p. 221)
Ibn al-Qayyim:
Wuzu ke Dauran apne Gardan ka Masah ke bareme RasoolAllah s.a.w. se koi bhi subut nahi hai.” ( Zaad al-Maad v. 1 p. 195 )
Shaikh Ibn Baaz:
Apne Gardan ka Masah Karna sabit nahi hai, sirf sar aur kaan ka masah karna chahiye wuzu ke dauran jese ki quran aur sunnat me kaha gaya hai.” ( Majmoo fataawa v. 10 p. 102 )
Shaikh al-Albaanee:
Hame ye nahi lagta ki Wuzu ke dauran Gardan masah karne ki ijazat hai, bashart uske koi koi daleel faraham(provide) kare jo ke sahih ho, jo ke shariat(qanun) me ho lekin aisa kuch bhi nahi hai so nahi kiye jana chahiye .”” ( Tamaam al-Minnah p. 98 )

LIHAZA SUNNAT SE MOHABBAT KARE AUR ISSE PARHEJ KARE,

RASOOL ALLAH S.A.W. NE FARMAYA
AUR JISNE MERE SUNNAT(TARIKE) SE MOHABBAT KIYA USNE MUJHSE MOHABBAT KIYA AUR JISNE MUJHSE MOHABBAT KIYA WO MERE SATH RAHEGA JANNAT ME . “ ( SUNAN TIRMIZI, HADITH-59. )
Gardan Ka Mas’ha Karna Bidat Hai:
Gardan ka mas’ha kise hadith say sabit nahi hai aur jo hazraat kahte hai yeh faraz ya sunnat hai toh un k pass koi sahih dalil nahi hai, na yeh amal Rasoolullah ﷺ say sabit na hi kise sahabi say sabit hai (ultay haathoon say mas’ha karna toh kise jhoote hadith say b sabit nahi) , laykin phir kuch hazraat is mislay ko sabit karne k liye kuch jhoote ahadith ka saharat lete hai,

Aayeh in sab dalail ka tahqiq jayeza lete hai:

Ibn Umar (Radiallahu Anhu) farmate hai:
Rasoolullah ﷺ ne farmaya: Jisne wodu kiya aur ghardan? (1) ka mas’ha kiya usay qayamat k din tohq nahi pahnaya jayega. ( Akhbaar Asbahaani, Jild no.7, Safa no.53, Hadith no.40488 )

Note: »غنق : ka matlab gala hai nakii ghardan.
(Leesanul Arab, 1/271)
Tahqiq: Yeh rewayat daragzail wojuhaat ki waja say mauda (jhoote) hai:

Muhammad Bin Ahmad Bin Muhammad Abu Bakr k bare mein Imam Zahabi (Rahimahullah) ne kaha:
وروى مناكير عن مجاهيلز..... وهو متهم
Yeh majhool reweyoon say munkar rewayaat nakal karta tha, aur wo muttaham hai (In par jhoot bolne ki tohmat hai). ( Mezaanul Atidaal, Jild no.3, Safa no.460, Rawe no.7158 )
Muhammad Bin Umaro Ubadul Al-Ansari par jarah:
Yahiya Bin Sa’id Al-Qattan (Rahimahullah) ne kaha:
يضعفه جدا Wo Bohut kamzoor hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.8, Safa no.32, Rawe no.142, Sanad Sahih )
Yahiya Ibn Ma’een (Rahimahullah) ne kaha:
ضعيف Daif hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.8, Safa no.32, Rawe no.142, Sanad Sahih, Tareekh-e-Ibn Ma’een, Jild no.4, Safa no.95, Rawe no.3328 )
Ibn Nameer (Rahimahullah) ne kaha:
ليس يسوى شيئا Wo kise cheez k barabar nahi hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.8, Safa no.32, Rawe no.142, Sanad Sahih )
Is rewayat ko Imam Shawkani (Rahimahullah) ne Nayl Al Awtar (1/202) mein Ahmad Bin Isa ki “Amali” aur “Shara At-Tajaryeed” say mansoob kiya hai, wo rewayat b daragzail wojuhaat ki waja say maudu (Jhoote) hai:

Hussain Bin Uloaan Kofi kazaab hai:
Yahiya Ibn Ma’een (Rahimahullah) ne kaha:
الحسين بن علوان كذاب Hussain Bin Uloaan kazaab hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.3, Safa no.61, Rawe no.277, Sanad Sahih ), ( Tareekh-e-Ibn Ma’een, Jild no.4, Safa no.381, Rawe no.4893 )
Abu Hatim Razi (Rahimahullah) ne kaha:
هو واه ضعيف متروك الحديث
Wo da’if, Matrook-ul-Hadith hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.3, Safa no.61, Rawe no.277, Sanad Sahih )
Ali Bin Ma’deni (Rahimahullah) ne kaha:
ضعيف جدا
Bohut da’if hai. ( )
Imam Nasai (Rahimahullah) ne kaha:
متروك الحديث
Matrook-ul-Hadith ( )
Imam Darqutni (Rahimahullah) ne kaha:
متروك الحديث
Matrook-ul-Hadith ( )
Ibn Hibban (Rahimahullah) ne kaha:
كان يضع الحديث
Hadith gadta tha. ( )
Imam Zahabi (Rahimahullah) ne kaha:
قلت: وكذاب من كذب
Main kahta hoon: Wo kazaboon mein say ek kazaab tha. ( Meezaan-ul-Atidaal, Jild no.1, Safa no.542, Rawe no.2027 )
Imam Asbahani (Rahimahullah) Kitab-ul- Dhu’afa (1/74, Rawe no.49) mein inko zikr karne k baad farmate hai:
الحسين بن علوان شيخ كوفي حدث عن هشام بن عروة بمناكير وموضوعات لا شئ
Hussain Bin Uloaan Sheikh Kofi Hisham say munkar aur muadu (jhoot) ahadith bayaan karta tha, koi cheez nahi hai. ( )

Imam Ukayli (Rahimahullah) ne Kitab-ul- Dhu’afa (1/251, Rawe no.302) mein zikr kiya hai.
Imam Ibn Adi (Rahimahullah) ne Al-Kamil Fi Dhu’afa Ar-Rijaal (Jild no.3, Safa no.231, Rawe no.489) mein zikr kiya hai.

Abu Khalid Al-Wasti Jo Umaro Bin Khalid Al-Qurshi
Dekheye Leesan-ul-Mezaan 7/461, Rawe no.5470) hai: Imam Ahmad Bin Hanbal (Rahimahullah) ne kaha:
عمرو بن خالد متروك الحديث ليس يسوى شيئا.... كذاب
Umaro Bin Khalid matrook-ul-hadith hai, Wo kise cheez k barabar nahi hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.6, Safa no.230, Rawe no.1277, Sanad Sahih, Tahzeeb-ul-Kamaal, Jild no.21, Safa no.606, Rawe no.4357 )
Imam Yahiya Ibn Ma’een (Rahimahullah) ne kaha:
عمرو بن خالد كذاب غير ثقة
Umaro Bin Khalid kazaab hai, gair siqa hai. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.6, Safa no.230, Rawe no.1277, Sanad Sahih )
Imam Ishaq Bin Rahwiya (Rahimahullah) ne kaha:
كان يضع الحديث
Wo hadith gadta tha. ( Tahzeeb-ul-Kamaal, Jild no.21, Safa no.606, Rawe no.4357 )
Abu Dawud (Rahimahullah) ne kaha:
هذا كذاب... ليس بشيء
Yeh kazaab hai, koi cheez nahi hai. ( Tahzeeb-ul-Kamaal, Jild no.21, Safa no.606, Rawe no.4357 )
Imam Abu Hatim Razi (Rahimahullah) ne kaha:
متروك الحديث
Matrook-ul-Hadith. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.6, Safa no.230, Rawe no.1277, Sanad Sahih )
Imam Abu Zura Razi (Rahimahullah) ne kaha:
كان يضع الحديث
Wo hadith gadta tha. ( Jarh Wa Tadeel, Jild no.6, Safa no.230, Rawe no.1277, Sanad Sahih )
Imam Nasai (Rahimahullah) ne kaha:
كوفى ليس بثقة, متروك الحديث
Matrook-ul-Hadith, Kufi siqa nahi hai. ( Kitab-ul- Dhu’afa, Safa no.220, Rawe no.449, Mezaan-ul-Atidaal, Jild no.3, Safa no.257, Rawe no.6359 )
Imam Darqutni (Rahimahullah) ne kaha:
كذاب wo Kazaab hai. ( Kitab-ul- Dhu’afa, Safa no.18, Rawe no.403, Mezaan-ul-Atidaal, Jild no.3, Safa no.257, Rawe no.6359 )
Imam Ukayli (Rahimahullah) ne Kitab-ul- Dhu’afa (3/268, Rawe no.1274) mein zikr kiya hai.
Imam Asbahani (Rahimahullah) ne Kitab-ul-Dhu’afa (Safa no.119, Rawe no.166) mein zikr kiya hai.
Imam Adi (Rahimahullah) ne Al-Kamil Fi Dhu’afa Ar-Rijaal (Jild no.6, Safa no.217, Rawe no.1289) mein zikr kiya hai.

Imam Zahabi (Rahimahullah) ne
kazaab karar diya hai. ( Al-Kashaf, Jild no.2, Safa no.75, Rawe no.4150 )
Imam Ibn Hajar (Rahimahullah) ne kaha: Yeh Matrool-ul-Hadith hai aur Imam Waki ne
kazaab karar diya hai. ( Taqreeb At-Tahzeeb, Jild no.1, safa no.733 )
Ek rewayat k alfaaz yeh hai:
عَنْ فُلَيْحِ بْنِ سُلَيْمَانَ ، عَنْ نَافِعٍ ، عَنْ ابْنِ عُمَرَ ، أَنَّ النَّبِيَّ صَلَّى اللَّهُ عَلَيْهِ وَسَلَّمَ قَالَ : { مَنْ تَوَضَّأَ وَمَسَحَ بِيَدَيْهِ عَلَى عُنُقِهِ ، وُقِيَ الْغُلَّ يَوْمَ الْقِيَامَةِ
Jis ne wazu kiya aur apne donu haathu say apne ghardan ? ka mas’ha kiya toh qayamat k din tohq pahnaney jaane say bacha jayega. ( Al-Talkhees-ul-Habeer, Jild no.1, Safa no.165, Hadith no.97 )

Isay Ar-Ruyani ne “Al-Bahri” mein zikr kiya hai, Ar-Rawayani ne Abul Hussain Bin Faris k (mansoob) Juz mein pada hai aur Ibn Faris ne Apne (na maloom) sanad say yeh hadith Fulayi say bayaan kiya hai.

Yeh rewayat bay sanad ya munqata hone ki waja say mardood hai
Hafiz Ibn Hajar Al-Askalani (Rahimahullah) ne kaha:
قُلْتُ : بَيْنَ ابْنِ فَارِسٍ ، وَفُلَيْحٍ مَفَازَةٌ ، فَيُنْظَرُ فِيهَا
Main kahta hoon: Ibn Faris aur Fulayi k darmeyaan sanad mojood nahi hai jis ki tahqiq ki jaye. ( Al-Talkhees-ul-Habeer, Jild no.1, Safa no.167, Hadith no.98 )

Ibn Faris (Rahimahullah) ne kaha:
هَذَا إنْ شَاءَ اللَّهُ حَدِيثٌ صَحِيحٌ
Yeh hadith In Sha Allah sahih hoge.

Jawab: Jab is rewayat ki sanad hi Ibn Faris aur Fulayi k darmeyaan nahi hai toh yeh kahna In Sha Allah hadith sahih hoge mardood hai, jo hazraat is rewayat ko sahih maante hai un par lazmi hai kii wo is rewayat ki sanad pesh kar sakhay taaki us sanad ki tahqiq kiye jaye.

Ek rewayat k alfaaz yeh hai:
أَنَّ النَّبِيَّ صَلَّى اللَّهُ عَلَيْهِ وَسَلَّمَ قَالَ : مَسْحُ الرَّقَبَةِ أَمَانٌ مِنْ الْغُلِّ

Imam Nawawi (Rahimahullah) ne Shara Mazhab (1/489) mein kaha hai:
هَذَا حَدِيثٌ مَوْضُوعٌ ، لَيْسَ مِنْ كَلَامِ النَّبِيِّ صَلَّى اللَّهُ عَلَيْهِ وَسَلَّمَ وَزَادَ فِي مَوْضِعٍ آخَرَ : لَمْ يَصِحَّ عَنْ النَّبِيِّ صَلَّى اللَّهُ عَلَيْهِ وَسَلَّمَ فِيهِ شَيْءٌ ، وَلَيْسَ هُوَ سُنَّةٌ ، بَلْ بِدْعَةٌ
Yeh hadith muada (jhoote) hai, yeh Nabi ka farmaan nahi , Nabi say is bare mein kuch sabit nahi hai, yeh sunnat nahi hai jabkii bidat hai. ( Al-Talkhees-ul-Habeer, Jild no.1, Safa no.165, Hadith no.97 )
Ibn Hajar (Rahimahullah) ne kaha hai:
Is hadith ko Abu Muhammad Al-Joni ne zikr kar k kaha hai kii Muhadithseen kiraam is rewayat ki sanad say razi nahi hai lihaza is fa’il k bare mein yeh taradud hai kii yeh sunnat hai ya adab? ( Al-Talkhees-ul-Habeer (1/165) )

Is baat par ta’aaqub karte hue Imam ne kaha is rewayat k hokum k bare mein koi taradud nahi kii yeh da’if hai,

Qazi Abul Tayab ne kaha is bare mein koi sunnat sabit nahi hai aur taqreban yehi baat Qazi Hussain aur Al-Forani ne kahi hai aur jab yeh hadith Gazali ne “Al-Waste” mein zikr kiye toh Ibn Salaha ne rad karte hue kaha hai kii “Yeh hadith Nabi say (bay sanad sahih ya hasan) maloom nahi hai jabkii yeh baaz ulma-e-Salaf ka qual hai”

Baaz Ulma-e-Salaf k qual say Ibn Salah ki muraad galiban is rewayat say hai jisay


bu Ubaidul Qasim Bin Salam ne Abdur Rehmaan Bin Mahdi An Al-Mas’udi An Qasim Bin Abur Rehman An Musa Bin Talha say rewayat kiye hai:
قَالَ : مَنْ مَسَحَ قَفَاهُ مَعَ رَأْسِهِ وُقِيَ الْغُلَّ يَوْمَ الْقِيَامَةِ
Jis ne sar k saath apna sar k pechlay hisay ka mas’ha kiya toh qayamat k din tohq pahnaye jaane say bach jayega. ( kitab - At-Tuhoor )

Hafiz Ibn Hajar (Rahimahullah) ne kaha ki is ka ahtimaal hai kii agarchee yeh mokuf hai laykin is ka hokum marfu’a hadith ka hokum hai kyunkii aise baat ka ta’aluq rai say nahi hai lihaza yeh rewayat mursal hai.

Jawab: Yeh muqtu’a rewayat Abu Ubaida ne “At-Tuhoor” (Safa no.384, Hadith no.334) mein nakal kiye hai laykin iski sanad b da’if hai kyunkii Al-Mas’audi ka hafiza akhree umar mein kharaab hogaya tha Ibn Mahdi ka is say sama’a akhree zamane ka hai aur is rewayat mein iztiraab hai , Abu Ubaid ne Hajaj say, Us ne
Qasim Bin Abdur Rehman say uska qual bayaan kiya hai kii Hajaj ne kaha: “Mujay is rewayat mein Musa Bin Talha ka naam yaad nahi hai”, Lihaza is qual ki salaf saleheen say nisbat sahih nahi hai.Dosri baat yeh ek tabi qual hai jo hujjut nahi hai.

Imam Bahaqi (Rahimahullah) ne “Sunan Kubra (1/60, Hadith no.282)” mein ek rewayat nakal kiye hai ki
Hazrat Abdullah Bin Umar (Radiallahu Anhu) sar k saath apna sar k pechlay hisay ka mas’ha b karte thy magar yeh rewayat b daif hai kyunkii iska rawe Abu Israil sacha tha magar hafiza kharaab tha ( Taqreeb At-Tahzeeb, 1/93, Rawe no.441 )
Aur.......
Hazrat Usmain ko galiya deta tha ( Tahzeeb At-Tahzeeb, 3/79, Rawe no.440 )
Imam Bahaqi (Rahimahullah) is hadith ko nakal karne k baad farmate hai:
هَذَا مَوْقُوفٌ وَالْمُسْنَدُ فِى إِسْنَادِهِ ضَعْفٌ وَاللَّهُ أَعْلَمُ
Yeh hadith mokoof hai aur iski sanad daif hai Wallahu Alamu. ( Sunan Kubra Lil Bahaqi, Jild no.1, Safa no.60, Hadith no.282 )

Imam Bagwi (Rahimahullah) ka khayaal hai ki Wazu mein ghardan ka mas’ha mustahab hai laykin Ibn Rif’ata kahte hai kii In k pas is k mustahab hone par koi hadith ya kise sahabi ka qual tak b nahi hai aur yeh aise baat hai kii jis mein qayaas ka koi amal dakhal nahi hai.

Ibn Rif’ata par ta’aqub karte hue Hafiz farmate hai ke
Ho sakhta hai ghardan k mas’ha ko mustahab kahne mein Baqwi ki dalil wo hadith ho jisay Ahmad aur Abu Dawud ne rewayat kiya hai kii Rasoolullah ﷺ ne sar ka mas’ha kiya hatakii Aap sar k peechlay hisay aur ghardan tak jaa punchay laykin yaad rahay kii is rewayat ki sanad da’if hai. ( Al-Talkhees-ul-Habeer, Jild no.1, Safa no.165, Hadith no.97 )

Is rewayat ki sanad mein Masaroof Bin Ka’ab Bin Umaro majhool hai (Taqreeb, 2/186) aur Layas Bin Abin Saleem ko jamhoor muhadithseen ne daif kaha hai (Tahzeeb At-Tahzeeb, 8/417-419, Rawe no.835).

Imam Nawawi (Rahimahullah) farmate hai
Pas yeh hadith bil itifaaq da’if hai. ( Shara Mazhab, Jild no.1, Safa no.464 )
Hazrat Wail (Radiallahu Anhu) say marwi ek lambi rewayat k yeh alfaaz hai:
ثم مسح رقبته
Phir Rasoolullah ﷺ ne ghardan ka mas’ha kiya. ( Al-Muajam Kabeer Lil Tabranee, Jild no.22, Safa no.49, Hadith no.118 )
Jawab:
Yeh hadith bohut da’if hai kyunkii is sanad mein Muhammad Bin Hajar da’if-ul-hadith, In k bare mein Imam Bukhari (Rahimahullah) ne kaha
Feehi nazar ( Tareekh-e-Kabeer, 1/69, Rawe no.164 )
Imam Ibn Adi (Rahimahullah) ne Al-Kamil (7/345, Rawe no.1648) mein zikr kiya hai, Imam Ukayli (Rahimahullah) ne Kitab-ul-Dhu’afa (4/59, Rawe no.161) mein zikr kiya hai, Imam Abu Ahmad Hakim (Rahimahullah) ne kaha
Qawi nahi hai ( Leesan-ul-Mezaan, 5/119, Rawe no.401 )
Aur . . . . .
Imam Zahabi (Rahimahullah) kahte hai
Iski pass munkar rewayaat hai ( Meezan-ul-Atidaal, 3/511, Rawe no.7361 )

Is rewayat ka dosra rawe Sa’id Bin Ubaidul Jabaar bhi da’if hai. ( Taqreeb, 1/357 )

Imam Haisami (Rahimahullah) farmate hai:
رواه الطبراني في الكبير والبزار وفيه سعيد بن عبد الجبار قال النسائي : ليس بالقوي وذكره ابن حبان في الثقات وفيه سند البزار والطبراني محمد بن حجر وهو ضعيف
Is rewayat ko Tabrani ne Kabeer mein aur Bazaar ne rewayat kiya hai aur is mein Sa’id Bin Ubaidul Jabaar hai, Nasai ne kaha: Qawi nahi hai aur Ibn Hibban ne Siqaat mein zikr kiya hai aur Bazaar aur Tabrani ki sanad mein Muhammad Bin Hajar aur wo da’if hai. ( Majma’a Az-Zawaa’id, Jild no.1, Safa no.533, Hadith no.1178 )

Dosri baat is rewayaat mein seenay par haath bandna, ameen aur Rafa-ul-yadain ka b zikr jis k Hanafee hazraat munkir hai aur is rewayat ko phir b pesh karna bohut jurat ki baat hai

Imam Nawawi (Rahimahullah) ne
Ghardan k mas’ha ko bidat karar diya hai. ( Shara Mazhab, Jild no.1, Safa no.489 ), ( Al-Talkhees-ul-Habeer, Jild no.1, Safa no.165, Hadith no.97 )
Imam Ibn Taimeya (Rahimahullah) farmate hai:
Nabi ﷺ say wazu mein ghardan ka mas’ha sabit nahi hai aur na is bare mein koi sahih hadith marwi nahi hai jabkii wazu ki sahih ahadith mein ghardan k mas’ha ka koi zikr nahi, is liye jamhoor ulam k nadeek yeh mustahab nahi hai maslan ( Imam Malik, | Imam Shafa’ee aur Ahmad. ), ( Majmu’a Fatawa, Jild no.21, Safa no.127 )
Imam Ibnul Qayim (Rahimahullah) farmate hai
Ghardan k mas’ha k bare mein koi hadith sabit nahi hai. ( Zadul Ma’ad, Jild no.1, Safa no.195 )

“Haza Maa Indi Wallahu Alamu Bi Sawabi”

Source: iqrakitab.wordpress.com
Source: islamicleaks.wordpress.com

Wednesday, November 4, 2015

कुरान में Orbits, Nebula aur Big Bang theory का ज़िक्र

कुरान में Orbits, Nebula aur Big Bang theory का ज़िक्र

कुरान से :
“सूर्य चन्द्रमा को अपनी ओर खींच नहीं सकता और ना दिन, रात से आगे निकल सकता है. ये सब एक कक्षा (orbit) में अपनी गति के साथ चल रहे है.” ( अल-कुरान 36:40 )

दिन के रात से आगे निकलने के शब्द देखिये, पृथ्वी से ऊंचाई पर जाकर देखा जाये तो इस दृश्य का इन्ही शब्दों में उल्लेख किया जा सकता है की दोनों एक दुसरे का पीछा कर रहे है. इसके अतरिक्त आयत में “यसबाहून” शब्द है जिसका अर्थ है की वो अपनी गति के साथ चल रहे हैं अर्थात आयत में बता दिया गया है की सूर्ये चन्द्रमा और पृथ्वी अपनी-अपनी धुरी (Axis) पर घूम रहे है और इस गति के साथ-साथ अपनी-अपनी कक्षों (Orbits) में भी घूम रहे है.

बीसवी शताब्दी में आकर विज्ञान (Science) ने बताया की सूर्य अपनी धुरी (Axis) पर एक चक्कर 25 दिन में पूरा करता है और अपनी कक्षा (Orbits) में 125 मील प्रति सेकंड (7,20,000 प्रति किलोमीटर प्रति घंटे) की गति से चलते हुए एक चक्कर 25 करोड़ वर्ष में पूरा करता है. आधुनिक विज्ञानिक शोध ने अब यह बताया हैं की सूर्य व चन्द्रमा की जीवन अवधि एक दिन समाप्त हो जाएगी और यह की सूर्य एक विशेष दिशा में भी बहा चला जा रहा है |

आज विज्ञान ने उस स्थान को निश्चित भी कर दिया है जहा सूर्य जाकर समाप्त होगा. उसे Solar Apex का नाम दिया गया हैं और सूर्य उसकी ओर 12 मील प्रति सेकंड की गति से बढ़ रहा है |

अब ज़रा बीसवी सदी के इन अनुसंधानों को कुरान की दो आयतों में देखे :

अल्लाह ने कुरान में फ़रमाया है :
“ क्या तुमने इस पर दृष्टि नहीं डाली की अल्लाह रात को दिन में और दिन को रात में प्रवेश करता है. सूर्य और चन्द्रमा को काम में लगा रखा है. हर एक निश्चित काल तक ही चलेगा (और अल्लाह जब ऐसा सर्वशक्तिमान और सर्वज्ञानी है तो) अल्लाह तुम्हारे सारे कर्मो की जानकारी भी रखता है |” ( अल-कुरान 31:29 )

इस आयत में एक निश्चित समय तक सूर्य और चन्द्रमा की जीवन का उल्लेख किया गया है और अब सूर्य के एक विशिष्ट स्थान की ओर खिसकने का वर्णन |

कुरान बताता है :
“ और एक निशानी यह भी है की सूर्य अपने लक्ष्य की और चला जा रहा है. यह एक अथाह ज्ञान वाले (अल्लाह) का निश्चित किया हुआ हिसाब है |” ( अल-कुरान 36:38 )

यह आकाशगंगा, सर मंडल, तथा पृथ्वी व आकाश कैसे उत्पन्न हुए इस सम्बन्ध में कुरान ने संकेत दिया था |

कुरान :
“ फिर उसने (अल्लाह ने) ध्यान किया और वो पहले धुंआ (Gasseous Mass) था |” ( अल-कुरान 41:41 )
अल्लाह ने कुरान में फ़रमाया है |
“ क्या इनकार करने वाले नहीं देखते की आकाश और पृथ्वी प्रारंभ में एक थे फिर हमने उन्हें अलग-अलग किया और हर जीव की उत्पत्ति का आधार पानी को बनाया? क्या अब भी वो ईमान नहीं लायेंगे ?” ( अल-कुरान 21:30 )

उपरोक्त दोनों आयते Nebula और विशाल विस्फोट सिध्धांत (big-bang theory) की ओर संकेत करती है. यह भी विशिष्ट रूप से नोट कर लें की इन सब आयतों में ईश्वर ने इनकार करने वालो को ईमान लाने का निर्देश ये कहते हुए दिया हैं की हमारे इन चमत्कारों को देख कर भी तुम क्यों ईमान नहीं लाते. 1400 साल पहले कोई व्यक्ति अपने सामान्य जीवन के अनुभवों पर आधारित साधारण सी कविता के रूप में लोगो के समक्ष प्रस्तुत करता तो उसमे चुनोती न होती की यह साधारण बाते नहीं, वरना ईश्वर का वो महान चमत्कार हैं जिन्हें देख कर तुम्हे ईमान लाना ही चाहिए.

अल्लाह ने कुरान में फ़रमाया है :
“ आसमानों और ज़मीन में जो कुछ है, उसे हमने तुम्हारे अधीन कर दिया है और इस तथ्य में उन लोगो के लिए निशानियाँ हैं जो चिंतन करते हैं |” (( अल-कुरान 45:13 )

Posted by : Indian Muslim Ekta

Tuesday, November 3, 2015

आदम : पैदाइश से ज़मीन तक उतारे जाने तक

पैदाइश से ज़मीन तक उतारे जाने तक
सब से पहले आदम (عليه السلام) को दुनिया में भेजा गया। हज़रत आदम (عليه السلام) को अबुलबशर यानि सब इन्सानों का बाप कहा जाता है। दुनिया में जितने भी इन्सान शुरू से आख़िर तक आ चुके हैं या आयेंगे सब हज़रत आदम (عليه السلام) की ही औलाद हैं इसी लिये इन्हें “आदमी” कहा जाता है। जब अल्लाह तआला ने हज़रत आदम (عليه السلام) की पैदाइश का इरादा फ़रमाया और फ़रिश्तों से अर्ज़ किया कि मैं ज़मीन में अपना ख़लीफ़ा बनाने वाला हूँ उस वक़्त ज़मीन में जिन्नात रहते थे और “ इब्लीस” की बादशाहत थी लिहाज़ा आपके बारे में कुछ बताने से पहले शैतान इब्लीस का ज़िक्र करना ज़रूरी है क्योंकि इस वाक़िये का शैतान से गहरा ताल्लुक़ है।

इब्लीस-ए-लईन
अल्लाह तआला ने इस मख़लूक़ को बहुत ख़ूबसूरत बनाया था और शराफ़त व बुज़र्गी से भी नवाज़ा था। ज़मीन और दुनिया के आसमान की बादशाहत दी थी। इसके अलावा उसे जन्नत की पहरेदारी के इनाम से भी नवाज़ा था। लेकिन उसने अल्लाह के सामने घमण्ड किया और ख़ुदाई का दावा कर बैठा जिसकी वजह से अल्लाह तआला ने उसे अपनी बारगाह से निकाल दिया और उसे शैतान में बदल दिया। उसकी शक्ल बिगाड़ दी और सारे रुतबे जो अल्लाह तआला ने उसे अता किये थे छीन लिये। उस पर अपनी लानत फ़रमाई, उसको अपने आसमानों से निकाल दिया और आख़िरत में उसको और उसकी पैरवी करने वालों का ठिकाना जहन्नुम क़रार दिया।

शैतान इब्लीस कौन था ?
इब्लीस फ़रिश्तों का सरदार था और जन्नत के बाग़ों की देखभाल करता था। उसको दुनिया और आसमान दोनों की बादशाहत मिली हुई थी।

(इब्ने जरीह रहमातुल्लाह अलैह से रिवायत, इब्ने अब्बास (र.अन्हु) के हवाले से)
फ़रिश्तों का एक क़बीला जिन्नात से ताल्लुक़ रखता था इब्लीस उन्हीं में से था। इस क़बीले के फ़रिश्तों को आग की गर्म लौ से पैदा किया गया था यह लौ शोले की तरह नज़र नहीं आती लेकिन सिर्फ़ महसूस की जा सकती है और सारी गर्मी इसी में होती है। इस क़बीले के अलावा बाक़ी सब फ़रिश्तों को नूर से पैदा फ़रमाया था। इब्लीस का नाम हारिस था दूसरी रिवायत में अज़ाज़ील भी आया है और यह जन्नत के पहरेदारों में से था।

Friday, October 30, 2015

9 और 10 मुहर्रम का रोज़ा


بِسْــــــــــــــــــمِ اﷲِالرَّحْمَنِ اارَّحِيم
✦ इब्न अब्बास रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम जब मदीना में तशरीफ़ लाए तो आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने यहूदियो को देखा की वो आशूरा के दिन (10 मुहर्रम) का रोज़ा रखते हैं, आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने उनसे इसका सबब पूछा तो उन्होने कहा की ये एक अच्छा दिन है इस दिन अल्लाह सुबहानहु ने बनी इसराईल को उनके दुश्मन ( फिरओन ) से निजात दिलवाई थी इसलिए मूसा अलैही सलाम ने उस दिन का रोज़ा रखा था तो आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया मूसा अलैही सलाम पर तुमसे ज़्यादा हक़ हमारा है, फिर आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने भी उस दिन रोज़ा रखा और सहाबा रदी अल्लाहू अन्हुमा को भी इसका हुक्म दिया
सही बुखारी, जिल्द 3, 2004

✦ अब्दुल्लाह बिन अब्बास रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की जब रोज़ा रखा रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने आशुरे के दिन (10 मुहर्रम) का और हुक़म किया इस रोज़ का, तो लोगो ने अर्ज़ की या रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ये दिन तो ऐसा है की इसकी ताज़ीम यहूद और नसारा करते हैं,तो आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया की जब अगला साल आएगा तो इंशा-अल्लाह हम 9 का रोज़ा रखेगे,आख़िर अगला साल ना आने पाया की आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम दुनिया से वफात पा गये (इसलिए हम मुसलमान 9 मुहर्रम और 10 मुहर्रम दोनों का रोज़ा रखते हैं)
सही मुस्लिम, जिल्द 3, 2666

BLACK SEED-THE REMEDY FOR EVERYTHING BUT DEATH

Black Seed :'The Remedy For Everything But Death'
The Black Seed is scientifically known as Nigella Sativa, the herd grows about 16-24 inches in height. From it comes a small rectangular Black Seed which is also known as the Blessed Seed (Arab: Habbat ul Baraka,or Habbat ul Sauda).

The ancient Egyptians knew and used the Black Seed and described it as a panacea (cure for problems/disease). The Romans also knew this seed and called it Greek Coriander. Documented by the Greek physician of the 1st century, Dioscoredes, as an ailment for general health problems such as toothaches, headaches and was mainly used as a dietary supplement.

In English-speaking countries with large immigrant populations, it is also variously known as kalonji in Hindi/Urdu कलौंजी kalauṃjī or كلونجى/कलोंजी kaloṃjī) or mangrail (Hindi मंगरैल maṃgarail), ketzakh (Hebrew קצח), chernushka (Russian), çörek otu (Turkish), habbat al-barakah (Arabic حبه البركة ḥabbat al-barakah, seed of blessing), siyah daneh (Persian سیاه‌دانه siyâh dâne), karim jeerakam in Malayalam.

A Prophetic Medicine as recommended 1400 years ago by the Prophet Muhammad (peace be upon him).

The Prophet (ﷺ) said : "Use the Black Seed for indeed, it is a cure for all diseases except death."
(Sahih Bukhari - 7:591)

Aisha (ra) said that : She heard the Messenger (ﷺ) say : "This black seed is a cure for every disease except death."
[Sahih Bukhari - 5687]

Khalid bin Sa'd (ra) said :"We went out and with us was Ghalib bin Abjar (ra). He fell sick along the way and when we came to al-Madinah, he was sick. Ibn Abu 'Atiq (ra) came to visit him and said to us, 'You should use this black seed. Take five or seven (seeds) and grind them then apply them to his nostrils with drops of olive oil on this side and on this side for Aisha (ra) narrated to them that she heard the Messenger (saw) say, "This black seed is a cure for every disease except death."
[Sahih Sunan Ibn Majah - 3449]

Ibn Qaiyum (may Allah have mercy upon him) said :"It has immense benefits and his statement that it is a cure for every disease except death is like the statement of Allah."

What does the hadith "In it is a cure for everything except death" mean?

There are a number of hadith pertaining to Black Seed and Hijama etc that state: "In it is a cure for everything except death." So why do these remedies not cure cancer, diabetes and all the illnesses in the world?

This is a common question for most people but what we should know is that if something does not seem right in the Quran and Sunnah, it's not the Quran or Sunnah but usually our understanding of it. I would remind our readers to be careful when things are translated from Arabic to another language, in this case English and always try to return to the original Arabic to resolve any issues. In regards to these hadith the Prophet (saw) did not say "Al Shifa" rather the Arabic word 'Shifa' (cure) came without the definite article which means that it is an indefinite word that covers most cures. This means that the Black Seed contains a benefit thatcontributes to the cure of every disease. However some people may misunderstand the translation and end up confusing themselves as well as others. From a medical point of view, these remedies contribute to the total cure - and not that they are the total cure themselves alone. For example Black Seed strengthens the immune system and so if the immune system is strengthened so will your bodies resilience against disease. Similarly, Hijama removes chemical impurities from the body and if this is done on a regular basis as recommended in the Sunnah, then it greatly reduces the likelihood of diseases gaining a permanent hold in your body. So the correct understanding of the hadith is that these remedies contain a benefit that contribute to the cure (shifa) of every disease.

Black Seed
Research has found that there is not another herb known to work with such a wide range of healing capabilities. Nigella Sativa are known by many names for example, Black Seed or Black Cumin. Habbat ul barakah in Arabic countries (the Blessed Seed) due to the saying of the Holy Prophet (saw) and habbat as-sawda. It is referred to as Schwarzkummel in Germany and Corek Otu in Turkey. It is often named Black Onion Seed because of its similarity to onion seed in appearance but they share no relation to each other.

Warning Regarding Black Seed Oil
Dear reader please note the hadith makes no mention of the word oil. The Prophet (saw) never used black seed oil! This is an important distinction as many people today are selling the oil and quoting the hadith as if it refers to the oil, which is causing confusion amongst people. In the hadith the Prophet (saw) specifies a dose of 7 seeds in each nostril for infection gives us an indication of the dose and the fact it is the seeds and not the oil. We are trying to emphasise the hadith and its meaning.

Isn't the oil is just the same as the seeds as it contains the same active ingredients?
On the face of it this may sound like a good argument but apart from going against the hadith it is also a scientifically flawed argument. No one would compare eating olives to consuming olive oil, or the derivative of a product to the whole product. The fact that the product is derived should be enough for a person to understand something is missing. To make it even simpler to understand how about comparing eating whole coconut to coconut oil or even whole fish to fish oil.

So is Black Seed oil useless?
We would advise that on balance, there have been medical studies done using the oil and some of those studies have indicated some benefits. So if one wants to use the oil form then they should follow the guidance from those studies as they have knowledge regarding the correct dosage for the conditions treated with the oil and can provide the statistics for the level of success. However the oil tends to be a very strong product and anyone who has tasted it can attest that it has a sharp and bitter taste. And for many people the oil causes stomach upsets etc, so we advise it should not be consumed on a long term basis without a compelling medical basis for doing so.

Black Seed Medical benefits For thousands of years, people around the world have recognized the tremendous healing properties of this Legendary Herb: "Nigella Sativa or Black Seed."

Another profound discovery is that the ingredients (Polyunsaturated Fatty Acids) of the oil lead to increased production of the messenger substance Prostaglandin E1, a hormone-like substance, that functions as a general regulator on several body functions such as:
  1. Brain function
  2. Nerve function
  3. Lowering blood pressure
  4. Activation of the immune system.
Rich in Nutritional Values.
Monosaccharides (Single Molecule Sugars) in the form of Glucose, Rhamnose, Xylose, and Arabinose are found in the Black Seed. The Black Seed contains a non-starch Polysaccharide component which is a useful source of dietary fiber. It is rich in fatty acids, particularly the unsaturated and essential fatty acids (Linoleic and Linoleic Acid). Essential fatty acids cannot be manufactured by the body alone, and therefore we acquire these from food.

Fifteen amino acids make up the protein content of the Black Seed, including eight of the nine essential amino acids. Essential amino acids cannot be synthesized within our body in sufficient quantities and are thus required from our diet.

Black Seed contains Arginine which is essential for infant growth.
Chemical analysis has further revealed that the Black Seed contains Carotene, which is converted by the liver into Vitamin A, the Vitamin known for its Anti-Cancer activity.

The Black Seed is also a source of Calcium, Iron, Sodium, and Potassium. Required only in small amounts by the body, these elements' main function is to act as essential co-factors in various enzyme functions.

Immune System Strengthening.
Studies begun just over a decade ago suggest that if used on an ongoing basis, Black Seed can play an important role to enhance human immunity, particularly in immunocompromise patients.

In 1986, Drs. El-Kadi and Kandil conducted a study with human volunteers to test the efficiency of Black Seed as a natural immune enhancer. The first group of volunteers received Black Seed capsules (1 gram twice daily) for four weeks and the second group were given a placebo. A complete lymphocyte count carried out in all volunteers before and four weeks after administration of Black Seed and the placebo revealed that the majority of subjects who took Black Seed displayed a 72% increase in helper to suppresser T-cells ratio, as well as an increase in natural killer cell functional activity. The control group who received the placebo experienced a net decline in ratio of 7%. They reported, "These findings may be of great practical significance since a natural immune enhancer like the Black Seed could play an important role in the treatment of Cancer, AIDS, and other disease conditions associated with Immune Deficiency states."

These results were confirmed by a study published in the Saudi Pharmaceutical Journal in 1993 by Dr. Basil Ali and his colleagues from the College of Medicine at Kin Faisal University.

In the field of AIDS research specifically, tests carried out by Dr. Haq on human volunteers at the Department of Biological and Medical Research Center in Riyadh, Saudi Arabia (1997) showed that Black Seed enhanced the ratio between helper T-cells and suppresser T-cells by 55% with a 30% average enhancement of the natural killer (NK) cell activity.

Anti-Histamine Activity.
Histamine is a substance released by bodily tissues, sometimes creating allergic reactions and is associated with conditions such as Bronchial Asthma.

In 1960, scientists Badr-El-Din and Mahfouz found that dimer dithymoquinone isolated from Black Seed's volatile oil, under the name of "Nigellone," and given by mouth to some patients suffering from Bronchial Asthma, suppressed the symptoms of the condition in the majority of patients.

Following the results of this early study, Crystalline Nigellone was administered to children and adults in the treatment of Bronchial Asthma with effective results and no sign of toxicity. It was observed, however, that although effective, Crystalline Nigellone displayed a delayed reaction.

In 1993, Nirmal Chakravarty, M.D., conducted a study to see if this delay could be attributed to the possibility of Crystalline Nigellone being an inhibitory agent on Histamine.

His hypothesis proved correct. Dr. Chakravarty's study found that the actual mechanism behind the suppressive effect of Crystalline Nigellone on Histamine is that Crystalline Nigellone inhibits Protein Kinase C, a substance known to trigger the release of Histamine. In addition, his study showed that Crystalline Nigellone decreased the uptake of Calcium in mast cells, which also inhibits Histamine release.

The importance of these results are that people who suffer from Bronchial Asthma and other Allergic Diseases may benefit from taking Crystalline Nigellone.

Anti-Tumor Principles.
A study of Black Seed's potential anti-tumor principles by the Amala Research Center in Amala Nagar, Kerala (India) in 1991 lent further impetus to Dr. Chakravarty's suggestion for the possible use of Black Seed in the treatment of Cancer.

Using an active principle of fatty acids derived from Black Seed, studies with Swiss Albino Mice showed that this active principle could completely inhibit the development of a common type of cancer cells called Ehrlich ascites carcinoma (EAC). A second common type of cancer cells, Dalton's lymphoma ascites (DLA) cells were also used. Mice which had received the EAC cells and Black Seed remained normal without any tumor formation, illustrating that the active principle was 100% effective in preventing EAC tumor development.

Results in mice who received DLA cells and Black Seed showed that the active principle had inhibited tumor development by 50% less compared to mice not given the active principle.

The study concluded, "It is evident that the active principle isolated from Nigella Sativa Seeds is a potent anti-tumor agent, and the constituent long chain fatty acid may be the main active component."

Anti-Bacterial.
In 1989, a report appeared in the Pakistan Journal of Pharmacy about Anti-Fungal Properties of the volatile oil of Black Seed. 1992 saw researchers at the Department of Pharmacy, University of Dhaka, Bangladesh, conducting a study in which the antibacterial activity of the volatile oil of Black Seed was compared with five antibiotics: Ampicillin, Tetracycline, Cotrimoxazole, Gentamicin, and Nalidixic Acid.

The Black Seed Oil proved to be more effective against many strains of bacteria, including those known to be highly resistant to drugs: V.Cholera, E. Coli (a common infectious agent found in undercooked meats), and all strains of Shigella spp., except Shigella Dysentriae. Most strains of Shigella have been shown to rapidly become resistant to commonly used antibiotics and chemotheraputic agents.

In light of the above research findings, it is of interest that homeopaths have long been known to make a tincture from the Black Seed for digestive and bowel complaints. Traditionally, the Black Seed is still used to help relieve vomiting and diarrhea, as well as flatulent colic, and to help counteract the griping action of purgatives (e.g. certain laxatives, fruits such as apricots when over consumed).Anti-Inflammatory

As early as 1960, Professor El-Dakhakny reported that Black Seed Oil has an anti-inflammatory effect and that it could be useful for relieving the effects of Arthritis.

In 1995, a group of scientists at the Pharmacology Research Laboratories, Department of Pharmacy, Kings College, Lond, decided to test the effectiveness of the fixed Oil of Nigella Sativa and its derivative, thymoquinine, as an anti-inflammatory agent. Their study found that the oil inhibited eicosanoid generation and demonstrated anti-oxidant activity in cells.

The inhibition of Eicasanoid generation, however, was higher than could be expected from Thymoquinone alone. Their study suggested that other compounds within the oil might also be responsible for the enhanced anti-inflammatory reactions in cells. The scientists speculated that the unusual C20:2 unsaturated fatty acids contained in Black Seed were possibly responsible for boosting the oil's effectiveness.

In 1997, studies conducted at the Microbiological Unit of the Research Center, College of Pharmacy, King Saud University, Riyadh, Saudi Arabia, found that externally in an ointment form, the anti-inflammatory activity of the Black Seed was found to be in the same range as that of other similar commercial products. The tests also demonstrated that the Black Seed is non-allergenic. Promotes Lactation

A study by Agarwhal (1979) showed that Black Seed Oil increases the milk output of breastfeeding mothers. A literature search by the University of Potchefstroom (1989), including biological abstracts, revealed that Black Seed's capacity to increase the milk flow of nursing mothers could be attributed to a combination of lipid portion and hormonal structures found in the Black Seed.

Black Seed - Summary of Actions:

Analgesic: Relieves or dampens sensation of pain.
Anthelmintic: (Also know as vermicide or vermifuge) destroys and expels intestinal worms.
Anti-bacterial: Destroys or inhibits the growth of destructive bacteria.
Anti-Inflammatory: Reduces inflammation.
Anti-Microbial: Destroys or inhibits the growth of destructive microorganisms.
Antioxidant: Prevents or delays the damaging oxidisation of the body's cells - particularly useful against free radicals.
Anti-Pyretic: (Also known as ferbrifuge) - exhibits a 'cooling action', useful in fever reduction.
Anti-spasmodic: Prevents or eases muscle spasms and cramps.
Anti-tumour: Counteracts or prevents the formation of malignant tumours*
Carminative: Stimulates digestion and induces the expulsion of gas from the stomach and the intestines.
Diaphoretic: Induces perspiration during fever to cool and stimulate the release of toxins.
Diuretic: Stimulates urination to relieve bloating and rid the body of any excess water.
Digestive: Stimulates bile and aids in the digestive process.
Emmenagogue: Stimulates menstrual flow and activity.
Galactogogue: Stimulates the action of milk in new mothers.
Hypotensive: Reduces excess blood pressure.
Immunomodulator: Suppresses or strengthens immune system activity as needed for optimum balance.
Laxative: Causes looseness or relaxation of the bowels.

KALONJI MOUT KE ALAWA HAR BIMARI KI SHIFA

KALONJI mein MAUT k alawa har bimari ki shifa hai HAZRAT ABU HURAIRA RADIYALLAHU ANHU bayan karte hain Ke
Nabi ( ﷺ ) se ye suna ki KALONJI mein MAUT k alawa har bimari ki shifa hai. ( Sahih Muslim, Jild 03, Kitab: Tibbi, Page 176, Baab 29, Hadith No. 5728-29 )
Aisha (ra) ne kaha ke
Aapne Nabi ( ﷺ ) se ye suna ki KALONJI mein MAUT k alawa har bimari ki shifa hai. ( Sahih Bukhari - 5687 )
Khalid bin Sa'd (ra) ne Kaha ke
Aisha (ra) bayan karti hai ke aapne Nabi ( ﷺ ) se suna ki KALONJI mein MAUT k alawa har bimari ki shifa hai. ( Sahih Sunan Ibn Majah - 3449 )
Kalonji k Fawayed: Kalonji ko jala kar khana Bawasir ko door karta hai.
Kalonji khane se pet k kide mar jate hain.
Kalonji ko pani mein josh de kar gharary karne se daanto ka dard door hota hai.
Peshab na aane ki surat mein Kalonji khane se peshab khul kar aata hai.
Kalonji Haiz ki rukawat ko door karti hai.
Ghar mein Kalonji ki dhuni se Khatmal aur Machcharo ka khatma hota hai.
Kalonji Shahed k saath khane se Pathri nikal jati hai. The Prophet (ﷺ) said :
Use the Black Seed for indeed, it is a cure for all diseases except death." ( Sahih Bukhari - 7:591 )
Aisha (ra) said that :
She heard the Messenger (ﷺ) say : "This black seed is a cure for every disease except death." ( Sahih Bukhari - 5687 )
Khalid bin Sa'd (ra) said :
We went out and with us was Ghalib bin Abjar (ra). He fell sick along the way and when we came to al-Madinah, he was sick. Ibn Abu 'Atiq (ra) came to visit him and said to us, 'You should use this black seed. Take five or seven (seeds) and grind them then apply them to his nostrils with drops of olive oil on this side and on this side for Aisha (ra) narrated to them that she heard the Messenger (saw) say, "This black seed is a cure for every disease except death." ( Sahih Sunan Ibn Majah - 3449 )
Ibn Qaiyum (may Allah have mercy upon him) said :"It has immense benefits and his statement that it is a cure for every disease except death is like the statement of Allah."

Hazrat Abu Hurairah (radiyallâhu ‘anhu) States- “ I have heard from Rasoollallah ﷺ that there is cure for every disease in black seeds except death and black seeds are shooneez.

KALONJI MEANS = black cumin seed (Nigella sativa seed) Studies have shown that kalonji oil is an effective anti-oxidant, anti-bacterial, and anti-inflammatory remedy. As a result, it is often used to fight infections and strengthen the immune system. It contains over 100 valuable nutrients. It is comprised of approximately 21% protein, 38% carbohydrates, and 35% plant fats and oils. Kalonji oil provides a rich supply of polyunsaturated fatty acids. These ingredients play a key role in daily health and wellness. Kalonji oil has over 1400 years history of use. Many ancient books and text suggest the following traditional uses for kalonji oil.

1 - Asthma Attack. To treat the asthma attack mix 10 drops of kalonji oil and one tea spoon honey in one glass warm water. Drink it as morning drink and once after dinner. Forty days treatment gives a positive result..

2- Bleeding of Nose. Bleeding of nose is a common problem among kids especially in hot days of summer. For its treatment burn a clean white paper. To the ashes add twenty two drops of kalonji oil and apply inside the nose..

3- Burns. To treat the burns combine 5 gm kalonji oil, 30 gm olive oil, 15 grams of Calamus (BUCH) and 80 grams of Mehendi leaves. Application on burns and feel soothing.

4- Chest Irritation and Stomach Trouble. Follow a three days treatment to control chest irritation and stomach trouble. Make a mixture by adding half tea spoon kalonji oil in a cup of warm milk. Drink it two times in a day.

5- Cough and Congestion. Take some kalonji oil, add desi Ghee and little salt and rub it on throat and chest once a day. Taking ½ teaspoon of kalonji oil daily in the morning is also beneficial..

6- Constipation. Mix ten drops of black kalonji oil with one teaspoon castor oil in mild warm milk and drink.. 7- Dandruff. Mix 10 gms of kalonji oil, 30 gms of olive oil, 30 gms of mehindi powder. Heat for a while and apply paste on scalps when becomes cool, rinse well with shampoo after one hour..

8- Diabetic. Take one cup of black tea with one tea spoon kalonji oil in it. Take it twice a day, in the morning and before going to bed. Continue taking it for least forty days. After that take some sweet to check the sugar level. If it is on normal level, stop taking black tea. .

9- Ear Infection. Mix equal amount of kalonji oil and pure olive oil, mild warm it and put a few drops in ear..

10- Fever Treatment. For the treatment of simple fever. In a half cup of water add half lemon juice and half tea spoon of kalonji oil; mix well and use it twice a day. Treatment may continue until you get relief from fever..

11- Fresh Face. For the freshness of your face use this remedy. Mix up three table spoons of honey, half table spoon kalonji oil and half tea spoon olive oil. Apply this mixture on your face twice a day in the morning and before sleep. Continue treatment at least forty days..

12- Hair Loss and Premature Greying. Scrub the scalp thoroughly with lemon; leave it for fifteen minutes and shampoo. After getting dried apply kalonji oil to whole scalp, continue for six weeks..

13- Headache. Headache is one of the major diseases of present era. To get rid from it, at the time of headache message kalonji oil on the forehead and near ears. If you should not feel easy then also drink half tea spoon kalonji oil twice a day..

14- Heart Attack. To lower down the risk of heart attack use this effective treatment. Mix half tea spoon of kalonji oil in one cup of goat milk and use it twice a day. This will liquefy the fats and widen the veins and arteries. Avoid fatty foods. Continue drinking for ten days and after that take it once a day..

15- Joint Pain. Swelling on ankle and other pains in the joints are terrible to face. Make an effective remedy by mixing one tea spoon vinegar, two tea spoons of honey and add half tea spoon of kalonji oil. Use this mixture two times a day before breakfast and after dinner and also massage with same oils. Avoid gas producing elements for 21 days..

16- Memory Power. Weak memory power and forgetfulness is a great issue in many people. To strengthen memory power boil 10 gm mint leaves in half cup water. Strain and mix half tea spoon kalonji oil and take it twice a day. Continue treatment for twenty days..

17- Migraine. Add one drop of kalonji oil in the opposite nasal area of the headache. Head massage with black kalonji oil and drink ten drops of kalonji oil once a day to relief from migraine..

18- Obesity. Take half tea spoon of kalonji oil, two tea spoons of honey mixed in lukewarm water and take twice a day. It will help to overcome your obesity. You also need to avoid from fried foods and bakery items.

19- Perfect Sleep. For a perfect good night sleep, right after dinner take half tea spoon kalonji oil with one tea spoon honey and enjoy a sound sleep. .

20- Piles and Madness. Take half teaspoon of kalonji oil mixed with one cup black tea, take twice a day before breakfast and after dinner. Avoid hot and spicy items..

21- Pimples and Acne. Take one cup sweet lime juice or pineapple juice add half teaspoon of kalonji oil twice a time daily. Before breakfast and after dinner for four weeks..

22- Severe Cold. To treat the severe cold, take half cup of water add half tea spoon kalonji oil and quarter tea spoon of olive oil; mix together and strain. Add two drops of strained mixture into the nose. Use this twice a day for better result..

23- Tooth Ache and Swelling Gums. Mix half teaspoon of kalonji oil with warm water and gargle the mouth. Also apply kalonji oil on the affected tooth, it will lighten pain quickly..

24- Weakness of Brain. To increase brain power take one teaspoon of ghee or two teaspoons of milk cream with two drops of kalonji oil and add sugar for taste, take it daily before breakfast. Continue until gets good result..

25- White and Black Spots on Skin. Make a solution by mixing one cup white vinegar and one tea spoon kalonji oil. Apply this mixture on affected areas before sleep at night and rinse off in the morning. Repeat this until get a clear skin..

Important Note: The articles presented are provided by third party authors and do not necessarily reflect the views or opinions of hanfi-1. They should not be considered as medical advice or diagnosis. Consult with your physician prior to following any suggestions provided.

Tags: Kalonji k Fawayed, Black Cumin seed (Nigella sativa seed)

कलौंजी - मौत को छोड कर हर मर्ज की दवाई है


بِسْــــــــــــــــــمِ اﷲِالرَّحْمَنِ اارَّحِيم

“मौत को छोड कर हर मर्ज की दवाई है कलौंजी"

हजरत अबू हुरेरा र॰ अ॰ से रिवायत है के
नबी ए करीम (ﷺ) से सुना की कलोंजी में मौत के अलावा हर बीमारी की शिफ़ा है.|

[सहीह मुस्लिम , जिल्द:03, किताब:तिब्बी, पेज:176, बाब:29, हदीस:5728-29].

कलौंजी : बड़ी से बड़ी बीमारी का एक इलाज : कलयुग में धरती पर संजीवनी है कलौंजी, अनगिनत रोगों को चुटकियों में ठीक करता है।

कैसे करें इसका सेवन
कलयुग में धरती पर संजीवनी है कलौंजी, अनगिनत रोगों को चुटकियों में ठीक करता है।
कलौंजी के बीजों का सीधा सेवन किया जा सकता है।
एक छोटा चम्मच कलौंजी को शहद में मिश्रित करके इसका सेवन करें।
पानी में कलौंजी उबालकर छान लें और इसे पीएं।
दूध में कलौंजी उबालें। ठंडा होने दें फिर इस मिश्रण को पीएं।
कलौंजी को ग्राइंड करें तथा पानी तथा दूध के साथ इसका सेवन करें।
कलौंजी को ब्रैड, पनीर तथा पेस्ट्रियों पर छिड़क कर इसका सेवन करें।

ये किन -किन रोगों में सहायक है :

टाइप-2 डायबिटीज : प्रतिदिन 2 ग्राम कलौंजी के सेवन के परिणामस्वरूप तेज हो रहा ग्लूकोज कम होता है। इंसुलिन रैजिस्टैंस घटती है,बीटा सैल की कार्यप्रणाली में वृद्धि होती है तथा ग्लाइकोसिलेटिड हीमोग्लोबिन में कमी आती है।

मिर्गी : 2007 में हुए एक अध्ययन के अनुसार मिर्गी से पीड़ित बच्चों में कलौंजी के सत्व का सेवन दौरे को कम करता है।

उच्च रक्तचाप : 100 या 200 मिलीग्राम कलौंजी के सत्व के दिन में दो बार सेवन से हाइपरटैंशन के मरीजों में ब्लड प्रैशर कम होता है।

दमा : कलौंजी को पानी में उबालकर इसका सत्व पीने से अस्थमा में काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है।

रक्तचाप (ब्लडप्रेशर) : रक्तचाप (ब्लडप्रेशर) में एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीने से रक्तचाप सामान्य बना रहता है। तथा 28 मिलीलीटर जैतुन का तेल और एक चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर पूर शरीर पर मालिश आधे घंटे तक धूप में रहने से रक्तचाप में लाभ मिलता है। यह क्रिया हर तीसरे दिन एक महीने तक करना चाहिए।

गंजापन : जली हुई कलौंजी को हेयर ऑइल में मिलाकर नियमित रूप से सिर पर मालिश करने से गंजापन दूर होकर बाल उग आते हैं।

त्वचा के विकार : कलौंजी के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा पर मालिश करने से त्वचा के विकार नष्ट होते हैं।
लकवा : कलौंजी का तेल एक चौथाई चम्मच की मात्रा में एक कप दूध के साथ कुछ महीने तक प्रतिदिन पीने और रोगग्रस्त अंगों पर कलौंजी के तेल से मालिश करने से लकवा रोग ठीक होता है।

कान की सूजन, बहरापन : कलौंजी का तेल कान में डालने से कान की सूजन दूर होती है। इससे बहरापन में भी लाभ होता है।

सर्दी-जुकाम : कलौंजी के बीजों को सेंककर और कपड़े में लपेटकर सूंघने से और कलौंजी का तेल और जैतून का तेल बराबर की मात्रा में नाक में टपकाने से सर्दी-जुकाम समाप्त होता है। आधा कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल व चौथाई चम्मच जैतून का तेल मिलाकर इतना उबालें कि पानी खत्म हो जाएं और केवल तेल ही रह जाएं। इसके बाद इसे छानकर 2 बूंद नाक में डालें। इससे सर्दी-जुकाम ठीक होता है। यह पुराने जुकाम भी लाभकारी होता है।

पेट के कीडे़ : 10 ग्राम कलौंजी को पीसकर 3 चम्मच शहद के साथ रात सोते समय कुछ दिन तक नियमित रूप से सेवन करने से पेट के कीडे़ नष्ट हो जाते हैं।

प्रसव की पीड़ा : कलौंजी का काढ़ा बनाकर सेवन करने से प्रसव की पीड़ा दूर होती है।

पोलियों का रोग : आधे कप गर्म पानी में एक चम्मच शहद व आधे चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय लें। इससे पोलियों का रोग ठीक होता है।

मुंहासे : सिरके में कलौंजी को पीसकर रात को सोते समय पूरे चेहरे पर लगाएं और सुबह पानी से चेहरे को साफ करने से मुंहासे कुछ दिनों में ही ठीक हो जाते हैं।

स्फूर्ति : स्फूर्ति (रीवायटल) के लिए नांरगी के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सेवन करने से आलस्य और थकान दूर होती है।

गठिया : कलौंजी को रीठा के पत्तों के साथ काढ़ा बनाकर पीने से गठिया रोग समाप्त होता है।

जोड़ों का दर्द : एक चम्मच सिरका, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय पीने से जोड़ों का दर्द ठीक होता है।

आंखों के सभी रोग : आंखों की लाली, मोतियाबिन्द, आंखों से पानी का आना, आंखों की रोशनी कम होना आदि। इस तरह के आंखों के रोगों में एक कप गाजर का रस, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2बार सेवन करें। इससे आंखों के सभी रोग ठीक होते हैं। आंखों के चारों और तथा पलकों पर कलौंजी का तेल रात को सोते समय लगाएं। इससे आंखों के रोग समाप्त होते हैं। रोगी को अचार, बैंगन, अंडा व मछली नहीं खाना चाहिए।

स्नायुविक व मानसिक तनाव : एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल डालकर रात को सोते समय पीने से स्नायुविक व मानसिक तनाव दूर होता है।

गांठ : कलौंजी के तेल को गांठो पर लगाने और एक चम्मच कलौंजी का तेल गर्म दूध में डालकर पीने से गांठ नष्ट होती है।

मलेरिया का बुखार : पिसी हुई कलौंजी आधा चम्मच और एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से मलेरिया का बुखार ठीक होता है।

स्वप्नदोष : यदि रात को नींद में वीर्य अपने आप निकल जाता हो तो एक कप सेब के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करें। इससे स्वप्नदोष दूर होता है। प्रतिदिन कलौंजी के तेल की चार बूंद एक चम्मच नारियल तेल में मिलाकर सोते समय सिर में लगाने स्वप्न दोष का रोग ठीक होता है। उपचार करते समय नींबू का सेवन न करें।

कब्ज : चीनी 5 ग्राम, सोनामुखी 4 ग्राम, 1 गिलास हल्का गर्म दूध और आधा चम्मच कलौंजी का तेल। इन सभी को एक साथ मिलाकर रात को सोते समय पीने से कब्ज नष्ट होती है।

खून की कमी : एक कप पानी में 50 ग्राम हरा पुदीना उबाल लें और इस पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय सेवन करें। इससे 21 दिनों में खून की कमी दूर होती है। रोगी को खाने में खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए।

पेट दर्द : किसी भी कारण से पेट दर्द हो एक गिलास नींबू पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीएं। उपचार करते समय रोगी को बेसन की चीजे नहीं खानी चाहिए। या चुटकी भर नमक और आधे चम्मच कलौंजी के तेल को आधा गिलास हल्का गर्म पानी मिलाकर पीने से पेट का दर्द ठीक होता है। या फिर 1 गिलास मौसमी के रस में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 2 बार पीने से पेट का दर्द समाप्त होता है।

सिर दर्द : कलौंजी के तेल को ललाट से कानों तक अच्छी तरह मलनें और आधा चम्मच कलौंजी के तेल को 1 चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से सिर दर्द ठीक होता है। कलौंजी खाने के साथ सिर पर कलौंजी का तेल और जैतून का तेल मिलाकर मालिश करें। इससे सिर दर्द में आराम मिलता है और सिर से सम्बंधित अन्य रोगों भी दूर होते हैं।

कलौंजी के बीजों को गर्म करके पीस लें और कपड़े में बांधकर सूंघें। इससे सिर का दर्द दूर होता है। कलौंजी और काला जीरा बराबर मात्रा में लेकर पानी में पीस लें और माथे पर लेप करें। इससे सर्दी के कारण होने वाला सिर का दर्द दूर होता है।

उल्टी : आधा चम्मच कलौंजी का तेल और आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर सुबह-शाम पीने से उल्टी बंद होती है।

हार्निया : 3 चम्मच करेले का रस और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट एवं रात को सोते समय पीने से हार्निया रोग ठीक होता है।

मिर्गी के दौरें : एक कप गर्म पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से मिर्गी के दौरें ठीक होते हैं। मिर्गी के रोगी को ठंडी चीजे जैसे- अमरूद, केला, सीताफल आदि नहीं देना चाहिए।

पीलिया : एक कप दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार सुबह खाली पेट और रात को सोते समय 1 सप्ताह तक लेने से पीलिया रोग समाप्त होता है। पीलिया से पीड़ित रोगी को खाने में मसालेदार व खट्टी वस्तुओं का उपयोग नहीं करना चाहिए।

कैंसर का रोग : एक गिलास अंगूर के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में 3 बार पीने से कैंसर का रोग ठीक होता है। इससे आंतों का कैंसर, ब्लड कैंसर व गले का कैंसर आदि में भी लाभ मिलता है। इस रोग में रोगी को औषधि देने के साथ ही एक किलो जौ के आटे में 2 किलो गेहूं का आटा मिलाकर इसकी रोटी, दलिया बनाकर रोगी को देना चाहिए। इस रोग में आलू, अरबी और बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए। कैंसर के रोगी को कलौंजी डालकर हलवा बनाकर खाना चाहिए।

दांत : कलौंजी का तेल और लौंग का तेल 1-1 बूंद मिलाकर दांत व मसूढ़ों पर लगाने से दर्द ठीक होता है। आग में सेंधानमक जलाकर बारीक पीस लें और इसमें 2-4 बूंदे कलौंजी का तेल डालकर दांत साफ करें। इससे साफ व स्वस्थ रहते हैं।

दांतों में कीड़े लगना व खोखलापन: रात को सोते समय कलौंजी के तेल में रुई को भिगोकर खोखले दांतों में रखने से कीड़े नष्ट होते हैं।

नींद : रात में सोने से पहले आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से नींद अच्छी आती है।

मासिकधर्म : कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से मासिकधर्म शुरू होता है। इससे गर्भपात होने की संभावना नहीं रहती है।

जिन माताओं बहनों को मासिकधर्म कष्ट से आता है उनके लिए कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में सेवन करने से मासिकस्राव का कष्ट दूर होता है और बंद मासिकस्राव शुरू हो जाता है।

कलौंजी का चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में शहद मिलाकर चाटने से ऋतुस्राव की पीड़ा नष्ट होती है।

मासिकधर्म की अनियमितता में लगभग आधा से डेढ़ ग्राम की मात्रा में कलौंजी के चूर्ण का सेवन करने से मासिकधर्म नियमित समय पर आने लगता है।

यदि मासिकस्राव बंद हो गया हो और पेट में दर्द रहता हो तो एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम पीना चाहिए। इससे बंद मासिकस्राव शुरू हो जाता है।

गर्भवती महिलाओं : कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन 2-3 बार सेवन करने से मासिकस्राव शुरू होता है।

गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं कराना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात हो सकता है। :

स्तनों का आकार : कलौंजी आधे से एक ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से स्तनों का आकार बढ़ता है और स्तन सुडौल बनता है।

स्तनों में दुध : कलौंजी को आधे से 1 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम खाने से स्तनों में दुध बढ़ता है।

स्त्रियों के चेहरे व हाथ-पैरों की सूजन : कलौंजी पीसकर लेप करने से हाथ पैरों की सूजन दूर होती है।

बाल लम्बे व घने : 50 ग्राम कलौंजी 1 लीटर पानी में उबाल लें और इस पानी से बालों को धोएं। इससे बाल लम्बे व घने होते हैं।
बेरी-बेरी रोग : बेरी-बेरी रोग में कलौंजी को पीसकर हाथ-पैरों की सूजन पर लगाने से सूजन मिटती है।

भूख का अधिक लगना : 50 ग्राम कलौंजी को सिरके में रात को भिगो दें और सूबह पीसकर शहद में मिलाकर 4-5 ग्राम की मात्रा सेवन करें। इससे भूख का अधिक लगना कम होता है।

नपुंसकता : कलौंजी का तेल और जैतून का तेल मिलाकर पीने से नपुंसकता दूर होती है।

खाज-खुजली : 50 ग्राम कलौंजी के बीजों को पीस लें और इसमें 10 ग्राम बिल्व के पत्तों का रस व 10 ग्राम हल्दी मिलाकर लेप बना लें। यह लेप खाज-खुजली में प्रतिदिन लगाने से रोग ठीक होता है।

नाड़ी का छूटना : नाड़ी का छूटना के लिए आधे से 1 ग्राम कालौंजी को पीसकर रोगी को देने से शरीर का ठंडापन दूर होता है और नाड़ी की गति भी तेज होती है। इस रोग में आधे से 1ग्राम कालौंजी हर 6 घंटे पर लें और ठीक होने पर इसका प्रयोग बंद कर दें।

कलौंजी को पीसकर लेप करने से नाड़ी की जलन व सूजन दूर होती है।

हिचकी : एक ग्राम पिसी कलौंजी शहद में मिलाकर चाटने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। तथा कलौंजी आधा से एक ग्राम की मात्रा में मठ्ठे के साथ प्रतिदिन 3-4 बार सेवन से हिचकी दूर होती है। या फिर कलौंजी का चूर्ण 3 ग्राम मक्खन के साथ खाने से हिचकी दूर होती है। और यदि आप काले उड़द चिलम में रखकर तम्बाकू के साथ पीने से हिचकी में लाभ होता है।

3 ग्राम कलौंजी पीसकर दही के पानी में मिलाकर खाने से हिचकी ठीक होती है।

स्मरण शक्ति : लगभग 2 ग्राम की मात्रा में कलौंजी को पीसकर 2 ग्राम शहद में मिलाकर सुबह-शाम खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

छींके : कलौंजी और सूखे चने को एक साथ अच्छी तरह मसलकर किसी कपड़े में बांधकर सूंघने से छींके आनी बंद हो जाती है।

पेट की गैस : कलौंजी, जीरा और अजवाइन को बराबर मात्रा में पीसकर एक चम्मच की मात्रा में खाना खाने के बाद लेने से पेट की गैस नष्ट होता है।

पेशाब की जलन : 250 मिलीलीटर दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेशाब की जलन दूर होती है।

दमा रोग (ASTHMA): एक चुटकी नमक, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और एक चम्मच घी मिलाकर छाती और गले पर मालिश करें और साथ ही आधा चम्मच कलौंजी का तेल 2 चम्मच शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। इससे दमा रोग में आराम मिलता है।

पथरी : 250 ग्राम कलौंजी पीसकर 125 ग्राम शहद में मिला लें और फिर इसमें आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर प्रतिदिन 2 बार खाली पेट सेवन करें। इस तरह 21 दिन तक पीने से पथरी गलकर निकल जाती है।

सूजन : यदि चोट या मोच आने के कारण शरीर के किसी भी स्थान पर सूजन आ गई हो तो उसे दूर करने के लिए कलौंजी को पानी में पीसकर लगाएं। इससे सूजन दूर होती है और दर्द ठीक होता है। कलौंजी को पीसकर हाथ पैरों पर लेप करने से हाथ-पैरों की सूजन दूर होती है।

स्नायु की पीड़ा : दही में कलौंजी को पीसकर बने लेप को पीड़ित अंग पर लगाने से स्नायु की पीड़ा समाप्त होती है।

जुकाम : 20 ग्राम कलौंजी को अच्छी तरह से पकाकर किसी कपड़े में बांधकर नाक से सूंघने से बंद नाक खुल जाती है और जुकाम ठीक होता है।

जैतून के तेल में कलौंजी का बारीक चूर्ण मिलाकर कपड़े में छानकर बूंद-बूंद करके नाक में डालने से बार-बार जुकाम में छींक आनी बंद हो जाती हैं और जुकाम ठीक होता है। कलौंजी को सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है।

यदि बार-बार छींके आती हो तो कलौंजी के बीजों को पीसकर सूंघें।

बवासीर के मस्से : कलौंजी की भस्म को मस्सों पर नियमित रूप से लगाने से बवासीर का रोग समाप्त होता है।

वात रोग : वात रोग में कलौंजी के तेल से रोगग्रस्त अंगों पर मालिश करने से वात की बीमारी दूर होती है।

नोट: ध्यान रखें कि इस दवा का प्रयोग गर्भावस्था में नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भ नष्ट हो सकता है।
Posted by : oldveda.com

Wednesday, October 28, 2015

इस्लाम क्या है?


بِسْــــــــــــــــــمِ اﷲِالرَّحْمَنِ اارَّحِيم
इस्लाम क्या है?

इस्लाम अरबी ज़ुबान का लफ़्ज़ है| इस लफ़्ज़ को खोलने (सन्धि विच्छेद) पर इसका लफ़्ज़ "स ल म" जिसके माने अमन, पाकिज़गी, अपने आप को हवाले करना है| मज़हब के लिहाज़ से इस्लाम का मतलब अपने आप को पूरी तौर पर अल्लाह के हवाले कर देना है|

अल्लाह लफ़्ज़ भी अरबी ज़ुबान का ही लफ़्ज़ है जिसके माने "खुदा" या "भगवान" या "रब"के है| जिसके मतलब- एक और अकेला खुदा जिसने पुरी कायनात को बनाया, वो बडा रह्म करने वाला और रहीम(दयालु) है|

इस्लाम कोई नया दीन नही बल्कि ये तब से है जब अल्लाह ने इस दुनिया मै सबसे पहले इन्सान आदम अं (जो इस दुनिया मे अल्लाह के सब से पहले नबी थे) उन को भेजा| आदम अं के बाद जितने भी नबी या रसूल आये सबने सिर्फ़ इस्लाम की ही दावत या तालीम दी| दर हक़ीक़त इस्लाम किसी एक इन्सान या कौम या शहर या देश के लिये नही बल्कि तमाम दुनिया मे रहने वाले इन्सानो का दीन है जो इन्सान अपने आप को अल्लाह के सुपुर्द कर दे|

अमन व सलामती इस्लाम का एक बुनयादी तसव्वुर हैं जो के इस्लाम से गहरा ताल्लुक रखता हैं| इस्लाम का पूरा निज़ाम ए हयात, कानून, इस के अह्काम, इसके रस्म सब के सब इसकी तस्वीर अमन के साथ जोड्ते हैं| इस्लाम इस अज़ीम कायनात मे अज़ीम वहदत का दीन हैं| जिसका पहला कदम तौहीद ए इलाही से शुरु होता हैं| यानि इस ज़ात से जिससे ज़िन्दगी का सदूर होता हैं और इसी की तरफ़ रुजु होगा|

रब्बुल आलामीन का इर्शाद हैं :(ऐ मेरे नबी) आप कह दिजिए के वो अल्लाह एक हैं, अल्लाह बेनियाज़ हैं, इसने किसी को पैदा नही किया और ना वो किसी से पैदा किया गया हैं, और न उसका कोई शरीक हैं|
(सूरह इख्लास)

सब की ज़रुरते वही पूरी करने वाला हैं| इस के दर के सिवा कोई दर नही सब इसी के मोहताज हैं वो किसी का मोहताज नही क्योकि वो अपनी सिफ़ात मे मुकम्मल हैं| इसके इल्म मे हर चीज़ हैं| इसकी रहमत इसके गज़ब से ज़्यादा हैं| इसकी रहमत हर किसी के लिये आम हैं| इसी तरह वो अपनी इस सिफ़ात मे भी मुकम्मल हैं| उसमे कोई ऐब नही न कोई उस जैसा हैं| इसलिये सिर्फ़ वो ही इबादत के लायक हैं उसके सिवा कोई नही| इन्ही सिफ़ात के तहत वो कायनात मे इबादत के तमाम इख्तलाफ़ात को यही खत्म कर देता हैं|

अल्लाह सुब्हानो तालाह फरमाता हैं :अगर आसमान व ज़मीन मे अल्लाह के सिवा कई खुदा होते तो दोनो तबाह हो जाते|
(सूरह अम्बिया-22)

एक और जगह अल्लाह ने क़ुरान मे फ़र्माया :अल्लाह ने अपनी कोई औलाद नही पैदा करी और न ही इसके साथ कोई दूसरा माबूद हैं, वरना हर माबूद अपनी मख्लूक को लेकर अलग हो जाता और इन मे हर एक दूसरे पर चढ बैठता|
(सूरह अल मोमिनून-91)

आगे पढ़े

इस्लाम के बुनयादी अकायद


بِسْــــــــــــــــــمِ اﷲِالرَّحْمَنِ اارَّحِيم
इस्लाम के बुनयादी अकायद

इस्लाम की बुनियाद जिन चीज़ो पर हैं उसके मुताबिक इन्सान को इन तमाम अकीदो पर अमल करना लाज़िमी हैं बिना इन बुनियादी अकीदो पर अमल किये और ईमान लाये एक इन्सान कतई मुसल्मान नही हो सकता| इस्लाम के बुनयादी अकीदे के मुताबिक जिन चीज़ो पर बन्दो को अमल करना और ईमान लाना हैं वो इस तरह हैं-

1.अल्लाह पर ईमान लाना अल्लाह पर ईमान लाना इस्लाम का पहला बुनयादी उसूल हैं| ईमान लाने से मतलब इस बात से हैं अल्लाह मौजूद हैं और वही हर चीज़ का मालिक हैं, वही सबका पालनेवाला हैं, वही हर चीज़ को अकेला पैदा करने वाला हैं, वो अकेला हैं और सारी कायनात को वही चला रहा हैं| इबादत का खालिस हकदार सिर्फ़ अल्लाह हैं न उसका कोई शरीक हैं न ही उसकी इबादत मे कोई शरीक हैं| उसका कोई शरीक और हिस्सेदार नही| और उसमे हर तरह की सिफ़ात हैं और वो हर ऐब से पाक और बरी हैं| इस्लाम का ये पहला बुनयादी अकायद हर इन्सान की फ़ितरत मे मौजूद हैं और अल्लाह ने हर इन्सान को इसी फ़ितरत पर पैदा किया हैं और इन्सान की ये फ़ितरत तब बदलती हैं जब उसके अकिदे को बदलने वाले दुनयावी मामलात उसके सामने होते हैं| इन्सान चाहे कैसा भी क्यो न हो लेकिन जब वो किसी परेशानी मे घिरता हैं तो सिर्फ़ अपने रब को को याद करता हैं और उसी की तरफ़ पलटता हैं ताकि उसका रब उसकी इस परेशानी को दूर कर दें|

नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम का इरशाद हैं : हर बच्चा फ़ितरते इस्लाम पर पैदा होता हैं और उसके मां-बाप या उसके अपने उसे बाद मे यहूदी या ईसाई या दूसरे दीन की तरफ़ फ़ेर देते हैं|

इन्सान की अक्ल इस बात की तरफ़ इशारा करती हैं और उसे अल्लाह पर ईमान लाने की रहनुमाई करती हैं लिहाज़ा अगर कोई इन्सान इस दुनिया और इसके अन्दर आसमान, ज़मीन, पहाड़, दरिया, जानवर और दिगर चीज़ो पर गौर करे तो उसे इस बात पर यकीन होगा की इस कायनात को पैदा करने वाला कोई अकेली ही कोई ज़ात हैं जिसने इस तमाम चीज़ो को बनाया और उसी के हाथ मे सब कुछ हैं|

इस ताल्लुक से अल्लाह ही सारी कायनात का पैदा करने वाला हैं इन्कार करने वालो की अक्ल से अगर ये सवाल किया जाये-
या तो ये कायनात किसी पैदा करने वाले के बिना ही वजूद मे आ गयी ?
इस सवाल पर अगर गौर किया जाये तो ये बात नामुमकिन सी लगती हैं और अक्ल भी हर ऐतबार से नकारती हैं क्योकि हर अक्ल वाला चाहे वो अल्लाह का इन्कार करे या न करे ये समझता हैं के कोई चीज़ बिना किसी पैदा करने वाले के बिना नही बन सकती|

या फ़िर इन्सानो और दूसरी मख्लूक ने खुद को पैदा कर लिया ?
ये बात भी काबिले गौर हैं अक्ल के ऐतबार से नामुमकिन हैं और कोई भी इन्सान इस पर यकीन नही करेगा के कोई चीज़ ने खुद को पैदा कर लिया क्योकि जब किसी चीज़ का वजूद ही नही तो वो खुद को कैसे पैदा कर सकती हैं और जब ये नही हैं तो आखिर इन्सान कैसे पैदा हुआ ?

इन सवालो से ये बात समझ आती हैं के कोई चीज़ बिना किसी के पैदा किया खुद नही हो सकती और न ही किसी मखलूक को ये ताकत के उसने खुद को पैदा कर लिया लिहाज़ा ये बात गौर करने वाली हैं के इन तमाम चीज़ो का कोई पैदा करने वाला हैं, जिसने इन्हे पैदा किया और ये सब चीज़े वजूद मे आई| और ये बात सिर्फ़ खालिस एक खुदा की तरफ़ इशारा करती हैं वही अल्लाह हैं जो हमेशा से हैं और हमेशा रहेगा|

ब्रिटिश किंग इन्स्टिटयूट और अमेरिकन इन्स्टीटयूट न्यूयार्क के प्रेसिडेंट क्रेसी मोरेसन ने अपनी किताब मे लिखा –पैदायशी रूप से इन्सान की बढ़ोत्तरी और जिम्मेदारी का अहसास अल्लाह पर ईमान लाने की निशानियो मे से एक निशानी हैं|

दूसरी जगह लिखते हैं– इन्सान की दीनदारी उसकी रूह का पता देती हैं और उसे धीरे-धीरे बुलन्द करती हैं यहा तक कि इन्सान अल्लाह से रिश्ते और जुड़ने का अहसास करने लगता हैं और अल्लाह से इन्सान की दुआ “के अल्लाह उसकी मदद करे एक फ़ितरती चीज़ हैं|

आगे लिखते हैं – इन्सान को रुतबा, इज़्ज़त, इन्सानियत किसी इन्सान को अल्लाह के इन्कार करने से नही मिलता| हमारी अक्ल और दायरे की हद हैं लिहाज़ा हम अक्ल की हद के आगे की सच्चाई तन नही जा सकते ना जान सकते और इसी बुनियाद पर हमारे लिये उस अल्लाह जिसने तमाम कायनात, हर चीज़, ज़र्रे, सितारो, सूरज और इन्सानो को पैदा किया ईमान लाना लाज़िमी हैं|

अल्लाह के अकेला होने की अक्ली दलील
इस बारे मे अनगिनत अक्ली दलीले मौजूद हैं जिनमे से एक दलील दुआओ का कबूल होना हैं| इस दुनिया मे हर ज़रुरतमंद अल्लाह से दुआ करता हैं तो अल्लाह उनकी दुआ को कबूल करता हैं उनकी मुसीबत और परेशानी कू उनसे दूर करता हैं|

अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया :
मुझे पुकारो मैं तुम्हारी दुआ करता हूं| (अल कुरान)
और वो कौन हैं जो परेशानी और मुसीबत के मारे की दुआ कबूल करता हैं और उसकी परेशानी दूर करता हैं| (अल कुरान)
और नूह को हमने निजात दी जब उसने हमको पुकारा तो हमने उसकी दुआ कबूल कर ली| (अल कुरान)

अक्ल की दलिलो मे नबीयो के वे निशानिया हैं जिनको चमत्कार कहा जाता हैं और ये वो चीज़े हैं जो इन्सान की आदत से अलग और उसकी ताकत से बाहर होती हैं जिसे अल्लाह नबियो के हाथो कराता हैं ताकि लोग नबी के ज़रिये बताये गये हक़ को पहचाने| लिहाज़ा ये मोजज़े (चमत्कार) रसूलो के भेजने वाले के वजूद की दलील हैं| इसकी मिसाल के तौर पे ये के जब मूसा अलै0 अपने मानने वालो को लेकर चले तो फ़िरऔन और उसके लश्कर ने उनका पीछा किया और जब मूसा और उनके मानने वाले दरिया नील के करीब पहुंचे तो अल्लाह के हुक्म से मूसा अलै0 ने दरिया मे अपनी लाठी मारी तो दरिया नील मे बीच से पैदल चलने के लिया रास्ता बन गया| (पूरा वाकिया कुरान मे देखे) और मूसा अलै0 और उनकी कौम ने दरिया पार कर ली लेकिन जब फ़िरऔन और उसके लश्कर ने दरिया के बीच मे पहुचा तो दरिया वापस मिल गयी और फ़िरऔन और उसका लश्कर उसमे डूब गया| इसी तरह ईसा अलै0 भी अल्लाह के हुक्म पर मुर्दो को ज़िन्दा करते थे| इसी तरह नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम ने अल्लाह के हुक्म पर अपनी ऊंगली के इशारे से चांद के दो टुकड़े कर दियए और फ़िर से मिला दिये| ये वो मोजज़े(चमत्कार) हैं जो अल्लाह नबीयो के ज़रिये इस लिये कराता हैं के लोग अल्लाह को पहचान ले के उसके सिवा कोई दूसरा खुदा नही| क्योकि नबी भी इन्सानो मे से होता हैं और किसी इन्सान के बस मे नही के वो ऐसे मोजज़े अपनी ताकत से दिखाये| इसके अलावा किसी पैदा हुए बच्चे का मां की छाती से दूध पीना भी इस बात की दलील हैं के कोई ताकत उस बच्चे दूध पीने के लिये रहनुमाई कर रही हैं क्योकी किसी पैदा हुए बच्चे से बात कर उसे ये समझा पाना नामुम्किन हैं के उसे ये बताया जाये के उसकी भूख के लिये उसकी मां की छाती मे उसके लिये दूध का इन्तेज़ाम हैं| ये और इस तरह बहुत सी अक्ल की निशानिया इस दुनिया मे मौजूद हैं जो अकेले अल्लाह के होना का सबूत हैं|

2. फ़रिश्तो पर ईमान लाना

फ़रिश्ते अल्लाह की मख्लूक हैं जिन्हे अल्लाह ने खालिस अपनी इबादत के लिये पैदा किया हैं| फ़रिश्तो पर ईमान लाना हर मुसलमान के लिये लाज़िमी हैं और अल्लाह की इस मख्लूक से इन्कार करने वाला कतई मुसल्मान नही हो सकता| जैसा के

अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया : हमारे नबी (मुहम्मद सल्लललाहो अलैहे वसल्लम) जो कुछ उनपर उनके परवरदिगार की तरफ़ से नाज़िल किया गया हैं उस पर ईमान लाये और उनके (साथ) मुसलमान भी और सब अल्लाह और उसके फ़रिश्तो और किताबो और रसूलो पर ईमान लाये|
(सूरह अल बकरा 2/285)

इसके अलावा हर फ़रीश्ते के ज़िम्मे अल्लाह ने अलग-अलग कामो को तय होना किया हैं जैसे जिब्रील अलै0 के ज़रिये अल्लाह अपने नबियो से कलाम करता हैं और अपने अहकाम बताता हैं| फ़रिश्तो की तादाद कितनी हैं इसका कोई इल्म किसी इन्सान को नही सिवाये अल्लाह के अलबत्ता हर फ़रिश्ता अल्लाह के हुक्म पर किसी न किसी काम को अन्जाम दे रहा हैं|

अल्लाह की इस मख्लूक पर ईमान लाने के लिये जिन बातो को जानना ज़रुरी हैं वो ये है-
फ़रिश्तो का वजूद हैं बल्कि फ़रिश्तो को अल्लाह ने फ़रिश्तो को इन्सान से पहले पैदा किया|

जैसा के कुरान से साबित हैं : और जब हमने फ़रिश्तो को हुक्म दिया के आदम को सजदा करो तो इब्लीस के सिवा सबने सजदा किया वो जिन्नात मे से था|
(सूरह कहफ़ 18/50)

इस आयत से साबित हैं के फ़रिश्ते का वजूद इन्सान की पैदाईश से पहले था|
जिन फ़रिश्तो का नाम मालूम हैं उनके नाम पर पर भी यकीन करना जैसे के जिब्रील अलै0 फ़रिश्तो के खसलत पर यकीन करना जैसे के

अल्लाह के रसूल ने फ़रमाया : हज़रत ज़र बिन हबीश रज़ि0 से रिवायत हैं के हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद ने फ़रमाया के नबी सल्लललाहो अलैहे वसल्लम ने जिब्रील अलै0 को देखा इनके छै सौ पंख हैं|
(बुखारी)

हज़रत जाबिर बिन अब्दुल्लाह से रिवायत हैं के
नबी सल्लललाहो अलैहे वसल्लम ने फ़रमाया : मुझे कहा गया के मैं तुम्हे हामीलीन अर्श के एक फ़रिश्ते के बारे मे बताऊँ| बिलाशक व शुबहा इसके एक कानो से दूसरे कानो की दूरी सात सौ साल के बराबर हैं|
(अबू दाऊद)

फ़रिश्तो के काम और इबादत पर यकीन करना जैसे तमाम फ़रिश्तो को अल्लाह ने सिर्फ़ अपनी इबादत के लिये पैदा किया और हर फ़रिश्ता इस काम को बिना रुके, थके कर रहा हैं जैसे के

अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया : "आसमान और ज़मीन मे जो हैं वो इस अल्लाह का हैं और जो इसके पास हैं वह इसकी इबादत से न सरकशी करते हैं और न थकते हैं| रात दिन उसकी तस्बीह करते हैं कभी काहिली नही करते|
(सूरह अंबिया 21/,20)

फ़रिश्तो को देख पाना किसी इन्सान के बस की बात नही सिवाये नबियो को अल्लाह के हुक्म से जैसा के उपर हदीस गुज़री के नबी सल्लललाहो अलैहे वसल्लम ने जिब्रील अलै0 को उनकी असल शक्ल मे देखा और उनके छ सौ पंख थे इसके अलावा जिब्रील अलै0 जब भी अल्लाह के हुक्म से अल्लाह का अहकाम लेकर नबी सल्लललाहो अलैहे वसल्लम के पास आते तो इन्सानी शक्ल मे आते हैं जैसा के

अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया : "फ़िर हमने इस के पास अपनी रूह(जिब्रील अलै0) को भेजा| पस वो इसके सामने पूरा आदमी बन कर ज़ाहिर हुआ|
(सूरह मरियम 19/17)

इसके अलावा जिब्रील अलै0 जब भी अल्लाह का अहकाम नबी सल्लललाहो अलैहे वसल्लम के पास लेकर आते तो इन्सान की ही शक्ल मे लेकर आते जैसा के कई हदीसो से साबित हैं|

3. रसूलो पर ईमान लाना

रसूल हर उस इन्सान को कहा जाता हैं जिसे कोई शरीयत अल्लाह की तरफ़ से दी जाती हैं और उसे उस शरीयत की (तब्लीग) प्रचार का हुक्म भी मिलता हैं| इसके उल्टे नबी हर उस इन्सान को कहते हैं जो पहले किसी और नबी की लाई हुई शरीयत को जारी रखता हैं या मुर्दा हो चुकी हुई शरीयत को ज़िन्दा करने के लिये भेजा जाता हैं|

अल्लाह ने हर कौम मे अपना रसूल भेजा जैसा के कुरान से साबित हैं| : " और ऐसी कोई उम्मत नही गुज़री जिसमे हमारा डराने वाला नबी न आया हो|
(सूरह फ़ातिर 35/24)

रसूल इन्सानो से कोई अलग नही होता बल्कि इन्सानो मे से ही होता हैं ताकि वो शरीयत को सबसे पहले अपने ऊपर अमल करके दिखाये और आम इन्सान उसे अपने लिये नामुमकिन न समझे| रसूल भी आम इन्सानो की तरह होता हैं और उसे भी हर तरह से दुख बीमारी परेशानी का सामना करना पड़ता हैं| फ़र्क सिर्फ़ इतना हैं किसी रसूल का इन्तेखाब अल्लाह के ज़रिये होता हैं इन्सानो के ज़रिये नही क्योकि रिसालत का इन्तेखाब अल्लाह का हक हैं न के इन्सानो का| रसूल इन्सानो मे सबसे बेहतर होता हैं और हर गुनाह से पाक होता हैं|

इन्सानो पर इस बात की पाबन्दी लाज़िम हैं के तमाम रसूलो पर जिसके बारे मे कुरान और हदीस से जानकारी मिलती हैं उस पर ईमान लाये| जिस किसी ने किसी रसूल का इन्कार किया उसका ईमान मुकम्मल नही अल्बत्ता नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम के बाद से कयामत तक जो सिर्फ़ नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम की लाई हुई शरियत की ही पाबन्दी हर इन्सान के लिये हैं लेकिन इस शरियत मे अल्लाह के तमाम रसूलो का इकरार लाज़िम हैं| लिहाज़ा किसी इन्सान ने अगर किसी रसूल को जानने के बाद भी उसका इन्कार किया तो वो मुसल्मान नही हो सकता| इन्सानो को जिन रसूलो के नाम मालूम हैं उन रसूलो के नाम के साथ उनकी रिसालत का यकीन करना लाज़िम हैं जिनका नाम नही मालूम उनके बारे मे बस इतना ही काफ़ी हैं के अल्लाह ने हर कौम मे अपना नबी भेजा हैं और कोई कौम बिना नबी के नही गुज़री| इसके साथ ही ये भी लाज़िम हैं के हर नबी ने सिर्फ़ अल्लाह ही की बात को लोगो तक पहुँचाया और उनकी ये खबर सच्ची हैं|

अल्लाह ने अपने आखरी रसूल जनाब मुहम्मद सल्लललाहो अलेहे वसल्लम को दुनिया मे भेज कर अपनी रिसालत के सिलसिले को खत्म कर दिया लिहाज़ा अब हर इन्सान के लिये ये लाज़िम हैं के वो मुहम्मद सल्लललाहो अलेहे वसल्लम और उनकी लाई हुई शरीयत यानि दीन ए इस्लाम को अपनाये क्योकि मुहम्मद सल्लललाहो अलेहे वसल्लम तमाम दुनिया के लिये नबी बना कर भेजे गये न के किसी एक मुल्क या बस्ती के लिये|

रसूल पर ईमान लाने का सबसे बड़ा फ़ायदा ये हैं के बन्दे को अल्लाह से कुरबत और उसकी रहमत और उसके डर का अहसास होता हैं साथ ही अल्लाह को किस तरह जानना हैं और पूजना हैं इसका इल्म होता हैं|

4. आखिरत पर ईमान लाना

आखिरत का दिन कयामत का दिन हैं जिस दिन दुनिया खत्म कर दी जायेगी और शुरु दुनिया से लेअक्र कयामत तक पैदा होने वाले तमाम लोग दुबारा ज़िन्दा करके उठाये जायेगे| उसे आखिरत का दिन इसलिये कहा जाता हैं के क्योकि सिर्फ़ उसी दिन हर इन्सान के दुनिया मे किये गये अमल का हिसाब होगा और उसके अमल के मुताबिक उसे जहन्नम या जन्नत मे रहने को दिया जायेगा| आखिरत के दिन पर ईमान लाने से मुराद इस बात से हैं के हर इन्सान जान ले के एक दिन उसे अल्लाह के सामने पेश होना हैं और उसके दुनिया मे किये गये अमल-दखल का हिसाब देना होगा| लिहाज़ा हर इन्सान ये जान ले के उसे उसके किये के मुताबिक ही बदला दिया जायेगा जहन्नम या जन्नत के तौर पर लिहाज़ा हर इन्सान को चाहिये के दुनिया मे रहते हुए अल्लाह के हुक्म पर चले ताकि उसे आखिरत मे अच्छा सिला मिले| आखिरत पर ईमान रखने के साथ तमाम इन्सान को इस बात पर भी गौर करना हैं जिसका बिना यकीन के आखिरत का ईमान मुकम्मल नही हो सकता|

दुबारा कब्र से उठाये जाने पर ईमान : "हर इन्सान जो कयामत होने से पहले दुनिया मे पैदा होगा उसे अल्लाह दुबारा ज़िन्दा करेगा| जब फ़रिश्ता सूर फ़ूकेगा और तब सारे लोग अल्लाह के सामने बिना कपड़ो के पेश होगे| सबसे पहले नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम की कब्र फ़टेगी इसके बाद दूसरे लोगो कि|"

बदला और हिसाब पर ईमान : "हर इन्सान जो इस दुनिया मे भेजा गया उसका हर अमल जो दुनिया मे किया चाहे अच्छा या बुरा उसका हिसाब होगा और उसके अमाल के मुताबिक उसे जन्नत और जहन्नम मे जगह दी जायेगी| किसी पर भी ज़र्रा बराबर भी ज़ुल्म न होगा| इसके बाद जन्नती जन्नत मे जहन्नमी जहन्नम मे हमेशा हमेशा रहेगे फ़िर न किसी को मौत आयेगी न किसी को दुबारा दुनिया मे वापस आकर नेक काम करके अपनी आखिरत सवारने का मौका दिया जायेगा|"

जन्नत और जहन्नम पर ईमान लाना : "जन्नत और जहन्नम इन्सान का आखिरी ठिकाना हैं जिसे अल्लान ने अपने बन्दो के लिये तैयार किया हैं| जन्नत मोमिन और अल्लह से डरने वाले नेक बन्दो के लिये और जहन्नम काफ़िर और सरकश बन्दो के लिए जिन्होने अल्लाह के साथ शिर्क किया और हमेशा अल्लाह के हुक्म की नाफ़रमानी करी| ये दोनो जगहे ऐसी हैं जिसे ना किसी इन्सान ने अभी तक देखा ना किसी इन्सान ने इसके बारे अभी तक अहसास किया| जन्नत मे लोग अपने दुनिया मे किये गये अमल के मुताबिक अलग-अलग दर्जो के हिसाब से जगह पायेगे|"

अकसर लोग ये गुमान करते हैं के वो दुबारा कैसे ज़िन्दा किये जायेगे| इस बारे मे कुरान एक खुली चुनौती देता हैं उन इन्कार करने वालो के लिये जो दुबारा जी उठने पर यकीन नही करते| कुरान मे अल्लाह ने अलग-अलग कई जगहो इन्सान के दुबारा जी उठने के बारे मे बताया हैं ताकि इन्सान इस बात पर गौर फ़िक्र करले के इन्सान को जिस तरह अल्लाह ने अभी पैदा किया ठीक उसी तरह दुबारा पैदा करना अल्लाह के लिये कोई मुश्किल काम नही|

5. आसमानी किताब(अल्लाह की किताब) पर ईमान लाना

किताबो पर लाने से मतलब वो किताबे हैं जिसे अल्लाह ने अपने रसूलो को दिया ताकि वो अल्लाह के बन्दो को एक कानून के तहत जोड़ सके और उस किताब मे लिखे अल्लाह के कानून पर अमल कर अपनी ज़िन्दगी को अल्लाह के बताये तरीके पर गुज़ार सके जिससे बन्दे कि दुनिया और आखिरत संवर सके|

किताबो को उतारने का मकसद सिर्फ़ ये के इन्सान को जब भी कोई परेशानी हो या किसे मसले का हल तलाशना हो तो वो सीधे अल्लाह की तरफ़ रुजू करे और अपने मसले को हल करे न के अपने आप से ही बिना सोचे समझे किसी मसले पर खुद का मालिक बन के फ़ैसला करे| हकीकतन मालिक सिर्फ़ एक हैं और वो हैं अल्लाह लिहाज़ा बन्दो के तमाम ज़िन्दगी के आने वालो मसले का हल सिर्फ़ अल्लाह की किताब मे हैं| किताबो पर ईमान लाने से मतलब ये भी हैं के जो किताबे अल्लाह ने अपने रसूलो को दी हैं उन्हे अल्लाह की ही बात समझा जाये क्योकि अल्लाह ने खुद किताब नही लिखी बल्कि अपने रसूल को दी जिसके ज़रिये अल्लाह की बात एक से दूसरे इन्सान तक पहुची| इसलिये किताबो पर बिना चू-चरा के इस बात पर यकीन करना ईमान का हिस्सा हैं|

जिस तरह अल्लाह ने मुहमम्द सल्लललाहो अलेहे वसल्लम को कुरान मजीद दी उसी तरह पिछली कौमो मे भी अपने रसूल के ज़रिये किताबे(शरियत या कानून) भेजी जैसे ईसा अलै0 को इंजील, मूसा अलै0 को तौरेत और दाऊद अलै0 को ज़बूर दी| आज ये किताबे अपनी असल हालत मे मौजूद नही और न ही इन किताबो की शरियत पर अमल करना हैं लेकिन फ़िर भी मुसलमान के लिये ये लाज़िम हैं बल्कि ईमान क एक हिस्सा हैं के इन किताबो पर ईमान लाये के ये अल्लाह की ही किताब हैं| इसके अलावा पिछली किताबे जैसे इंजील, तौरेत और ज़बूर इस बात की शहादत देती हैं के कुरान अल्लाह की आखिरी किताब हैं जो के मुहम्मद सल्लललाहो अलेहे वसल्लम पर उतारी गयी और यही आखिरी शरियत हैं जिसे अल्लाह ने कयामत तक के लिये बाकि छोड़ा लिहाज़ा हर इन्सान चाहे वो किसी मुल्क का हो या किसी कौम का सबके लिये लाज़िम हैं के वो कुरान पर ईमान लाये और मुसलमान हो जाये|

पिछ्ली शरियत मे अल्लाह की किताबे आज अपनी असल हालत मे मौजूद नही न ही अब वो शरियत मक्बूल हैं इसमे सबसे अहम बात ये हैं के पिछ्ली किताबे किसी को याद नही लेकिन कुरान की खासियत ये हैं के अल्लाह ने इसे इतना आसान कर दिया के 1400 सालो से आज तक लातादाद ऐसे लोग गुज़रे जिन्होने कुरान को याद(हिफ़्ज़) किया उसके अलावा खुद अल्लाह ने कुरान की ज़िम्मेदारी ली के इसे कयामत तक कोई नही बदल पायेगा बल्कि कुरान खुद इस बात का खुला चैलेन्ज करती हैं| 1400 सालो से आज तक कुरान वैसा ही मौजूद हैं जैसा अल्लाह ने इसे नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम पर उतारा था|

6. अच्छी बुरी तकदीर पर ईमान लाना

तकदीर पर ईमान लाने से मतलब ये के जो कुछ ह चुका या जो कुछ हो रहा हैं या जो कुछ होगा सब अल्लाह के इल्म मे हैं| अल्लाह ने हर इन्सान की तकदीर उसके पैदा होने से पहले लिख दी| क्योकि अल्लाह को हर चीज़ का इल्म हैं और कोई चीज़ उसके इल्म से बाहर नही| न कोई चीज़ उसकी मर्ज़ी के बिना हो सकती हैं न कोई अल्लाह की मर्ज़ी के बिना कुछ कर सकता हैं|

तकदीर पर ईमान लाना इन्सान को कल्बी सुकून व आराम देता हैं और न मिलने वाली चीज़े या न हो पाने वाले काम पर वो सब्र करता हैं और ये कहता हैं कि ये उसके रब की मर्ज़ी थी जबकि तकदीर पर ईमान न ला पाने के सबब इन्सान दुखी और परेशान रहता और और न मिलने वाली चीज़ो पर सब्र नही कर पाता| तकदीर पर ईमान लाना इन्सान के अन्दर बहादुरी और सब्र की ताकत पैदा करता हैं और बन्दा अपने आप को अपने रब यानि अल्लाह के हवाले कर देता हैं| तकदीर पर ईमान न लाने की ज़िन्दा मिसाल इन्सान का खुदकुशी करना हैं जो पशचमी देशो मे बहुत ज़्यादा हैं जहा गैर मुस्लिम कसरत से खुदकुशी करते हैं और इसका आकड़ा पूर्वी मुस्लिम देशो से बहुत ज़्यादा हैं|

Posted by : ISLAM THE TRUTH